«पर्न फल्में कैसे बनत है »

इंटेलीजेंस की करीब दो माह चली जांच में खुशी नाम के सभी दस्तावेज फर्जी निकले। सभी दस्तावेजों में बंगाल का पता था, जहां जानकारी कराने पर वह फर्जी बताया गया। जांच में खुशी का नाम फातिमा खातून निकला। इसके बाद पुलिस ने खुशी के खिलाफ मंगलवार को विदेशी अधिनयम (14 और 14 ए) में रिपोर्ट दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की जांच में रवि वर्मा भी उसके षडयंत्र में शामिल निकला। उसके खिलाफ कई रिकार्डिंग भी मिली है। इसके बाद पुलिस ने मुकदमे में धोखाधड़ी, कूटरचित दस्तावेज तैयार करने, आपराधिक षडय़ंत्र करने आदि धारा भी बढ़ाई।

इंडिया टुडे वूमन समिट एंड अवार्ड: जिम्मेदारी

एकहास्यकलाकार,एकट्रांसजेंडरजिसेअपनीसटीकराजनैतिकटिप्पणियोंपरमिलनेवालेउलाहनोंकीकोईपरवाहनहींऔरएकमंत्री,जोकड़वीबातेंभीइतनीकुश

कोरोना काल में जनता के दर्द को भूलकर सत्ता बच

प्रदेशकीकांग्रेसपार्टीमेंचलरहीगुटबाजिकघमासानपरभाजपाकेप्रदेशमुख्यप्रवक्ताऔरचौमूंसेविधायकरामलालशर्माकाबयानसामनेआयाहै।शर्मा