«न्यूज़ पेपर इन हंद »

नई दिल्ली: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का मानना था कि साफ-सफाई, ईश्वर भक्ति के बराबर है और इसलिए उन्होंने लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा दी थी और देश को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था. उनका कहना था कि उन्होंने ‘स्वच्छ भारत’ का सपना देखा था, जिसके लिए वे चाहते थे कि भारत के सभी नागरिक एक साथ मिलकर देश को स्वच्छ बनाने के लिए कार्य करें.

सरकार ने टेंपरेरी आइडी से रोकी रजिस्ट्री, स्ट

जागरणसंवाददाता,बहादुरगढ़:रजिस्ट्रियोंकेमामलेमेंनितनएफैसलेलेरहीसरकारकेहालियाआदेशनेउनलोगोंकोपरेशानीमेंडालाहुआहैजोस्टांपपेप

अभ्यर्थी बोले- सरकार पूरी तरह फेल, परीक्षा ही

यूपीटेट-2021कापर्चालीकहोनेकीवजहसेपरीक्षारद्दकरदीगई।इसकेबादछात्रोंकागुस्साबढ़गया।परीक्षाकेंद्रसेबाहरनिकलेछात्रकहरहेहैंकिसर

Ahemdabad : भर्ती परीक्षा पेपर लीक को लेकर प्

अहमदाबाद,जेएनएन।गैरसचिवालयकर्मचारीभर्तीपरीक्षामेंपेपरलीकहोनेकाआरोपलगातेहुएसैकडोंयुवकगांधीनगरमेंएकत्रहुएलेकिनगुजरातसरकारन