युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कैप्टन सरकार प्रयत्नशील : धालीवाल

संवादसहयोगी,फगवाड़ा:पंजाबकेमुख्यमंत्रीकैप्टनअमरिंदरसिंहकीओरसेप्रदेशकेयुवाओंकोरोजगारहेतुसशक्तबनानेकेलिएघर-घररोजगारकोराबारमिशनकेअंतर्गतग्रामीणक्षेत्रकेयुवाओंको3,000परमिटवर्चुअलतरीकेसेबाटेगए।कैप्टनसरकारकीओरसालकेअंततकऔर8,000परमिटबाटेजाएंगेवपूरेसालमेंकुल11,000परमिटबांटेजाएंगे।इससंबंधीनगरनिगमफगवाड़ाकेमीटिंगहालमेंवर्चुअलकार्यक्रमआयोजितकियागयाजिसमेंस्थानीयविधायकबलविंदरसिंहधालीवाल(रिटायर्डआइएएस)विशेषरूपसेशामिलहुए।वहींएडीसीराजीववर्मावएसडीएमशायरीमल्होत्राभीसमारोहमेंमौजूदरहे।कार्यक्रमकेदौरानफगवाड़ाकेग्रामीणक्षेत्रोंसेसंबंधरखनेवाले5लोगोंकोमिनीबसकेपरमिटसौंपेगए।विधायकधालीवालनेकहाकिकैप्टनसरकारप्रदेशकेयुवाओंकोआत्मनिर्भरबनानेऔररोजगारहेतुसशक्तबनानेकेलिएप्रयासरतहैऔरइसीकेतहतमुख्यमंत्रीकैप्टनअमरिंदरसिंहकीओरसेग्रामीणक्षेत्रकेयुवाओंको3,000परमिटजारीकिएगएहै।उन्होंनेकहाकिइससेप्रत्यक्षऔरपरोक्षदोनोंरूपमेंरोजगारसृजनहोगा।विधायकनेकहाकिपरमिटकेलिएआवेदनकरनेमेंग्रामीणक्षेत्रकेयुवाओंकेलिएकोईसमयसीमातयनहींकीगईहै।विधायकनेकहाकिमुख्यमंत्रीकैप्टनअमरिंदरसिंहनेपरिवहनविभागकेअधिकारियोंकोनिर्देशजारीकरकहाकिवहअगलेतीनमहीनेमेंआवेदकोंकेलिएआसानआनलाइनसुविधाविकसितकरेऔरसभीबसोंकेलिएपरमिटजारीकरनेमेंपारदर्शितालाए।इसकेअलावाउन्होंनेकहाकिसड़कोकोसुरक्षितबनानाऔरवाहनोंकाप्रदूषणघटानेकेलिएकैप्टनसरकारनेवाहननिरीक्षणऔरप्रमाणीकरणकेंद्रकानींवपत्थररखाहै।उन्होंनेबतायायहकेंद्रवाहनोंकीसड़कपरचलनेकीयोग्यताकानिरीक्षणव्यक्तिगततरीकेद्वाराकरनेकीबजाएआटोमैटिककरेगा।इसकेअलावाविधायकनेकहाकिमुख्यमंत्रीकैप्टनअमरिंदरसिंहकीसरकारनेसरकारसेवाओंकोघरोंतकपहुंचानेकीयोजनाशुरूकीहै।इसकेतहतचंडीगढ़मेंकार्डप्रिटिंगऔरडिस्पेचसेंटरकाउद्घाटनकियागया।ड्राईविंगलाईसेंसऔररजिस्ट्रेशनसर्टिफिकेटडाकविभागद्वाराराज्यभरमेंघर-घरभेजेजाएंगे।विधायकधालीवालनेकहाकिकैप्टनसरकारप्रदेशकेहरवर्गकेलिएकामकररहीहै।उन्होंनेकहाकिसीएमकामकसदहैकिप्रदेशसरकारद्वाराशुरुकीगईजनकल्याणकारीयोजनाओंकालाभनिचलेस्तरकेहरव्यक्तितकपहुंचे।इसमौकेपरमार्केटकमेटीकेचेयरमैननरेशभारद्वाज,ब्लाककांग्रेसशहरीप्रधानसंजीवबुग्गा,सीनियरकांग्रेसीनेताविनोदवरमानी,महिलाकांग्रेसीनेत्रीसरजीवनलत्ता,अविनाशगुप्ताबाशी,मलकीयतसिंहरघबोत्रा,नायबतहसीलदारपवनकुमारशर्मा,ओमप्रकाशबिट्टू,गुरदीपदीपा,गुरजीतपालवालिया,जिलापरिषदसदस्यनीशारानीभीउपस्थितथे।