वैश्विक महामारी के खिलाफ महिला वैज्ञानिकों की तकनीक पर चर्चा

बेनाचिति:केंद्रीययांत्रिकीअभियांत्रिकीअनुसंधानसंस्थान(सीएमईआरआइ)मेंअंतर्राष्ट्रीयमहिलादिवससोमवारकोमनायागया।जिसकानेतृत्वसीएमईआरआइकेनिदेशकप्रो.डॉ.हरीशहिरानीनेकिया।जिसमेंसीएमईआरआइकीमहिलाविज्ञानिकोंकेअलावाकेंद्रीयविद्यालयसीएमईआरआइएवंकन्यापुरपॉलिटेक्निककेअधिकारियोंवछात्र-छात्राओंनेहिस्सालिया।जहांप्रो.हिरानीनेमहिलाओंकीउपलब्धियोंपरचर्चाकी।उन्होंनेकहाकिमहिलाओंमेंधैर्यऔर²ढ़संकल्पकीक्षमताहै।उन्होंनेग्रामीणक्षेत्रकीमहिलाओंकेविकासपरबलदिया।वहींउन्होंनेकौशलविकासकार्यक्रमकीउपयोगितापरभीचर्चाकी।उन्होंनेसमाजकेलिएसीएमईआरआइकीउपलब्धियोंसेभीसभीकोअवगतकरवाया।प्रो.हिरानीनेछात्रोंसेचुनौतियोंकासामनाकरनेकाआग्रहकियाऔरउनमेंउद्यमीमानसिकताविकसितकरनेकीसलाहदी।साथहीसीएमईआरआईसंस्थानमेंमौजूदतकनीकीविकासऔरबुनियादीढांचेकीमददप्रदानकरनेकीबातभीकही।उन्होंनेकोविडजैसीवैश्विकमहामारीकेदरम्यानसंस्थानकीमहिलावैज्ञानिकोंकेपहलकीसराहनाकी।मौकेपरडॉ.स्वातिसाहानेकोविडसंकटकेदौरानमेडिकलटीमकेकार्योंकीसराहनाकी।प्रमुखवैज्ञानिकडॉ.सरिताघोषनेकोविडकेदौरानबेसिकलिक्विडसोपतैयारकरनेकेअनुभवकोसाझाकिया।प्रमुखवैज्ञानिकडॉ.अर्पितामुखर्जी,वरीयवैज्ञानिकडॉ.पौलोमीरॉय,डॉ.इशितासरकारनेभीसुरक्षामास्क,वायुप्रदूषणनियंत्रणकीतकनीककीजानकारीदी।

जिसेविकसितकरनेमेंमहिलावैज्ञानिकोंनेभीमुख्यभूमिकानिभाई।