ऊर्जा संरक्षण कानून में होगा संशोधन, कंपनियों को बताना होगा कितनी सौर और पवन ऊर्जा का किया इस्तेमाल

नईदिल्ली,जागरणब्यूरो।केंद्रसरकारकारपोरेटसेक्टरमेंबिजलीकीखपतमेंबड़ेबदलावकीतैयारीकररहीहै।प्रस्तावयहहैकिकंपनियोंकोज्यादासेज्यादागैरपारंपरिकस्रोतोंयानीअक्षयस्रोतोंसेबननेवालीबिजलीजैसे,सौर,पवनऔरपर्यावरणकोनुकसाननहींपहुंचानेवालेदूसरेस्रोतोंकीबिजलीकेप्रयोगकेलिएप्रोत्साहितकियाजाए।इसकेलिएऊर्जासंरक्षणकानून,2001मेंसंशोधनकरनेकाप्रस्तावहै।इसकाएकअसरयहहोगाकिकंस्ट्रक्शन,ट्रांसपोर्टऔरदूसरेउद्योगोंमेंअक्षयऊर्जाकीखपतबढ़ेगी।

संशोधनकामसौदातैयार

कंपनियोंकोइसबातकेलिएबाध्यकियाजाएगाकिवहबताएंकिअक्षयऊर्जासेबनीबिजलीकाकितनाइस्तेमालकररहीहैं।सरकारकामाननाहैकिभारतमेंपर्यावरणकोसुरक्षितरखनेकेलिहाजसेयहमहत्वपूर्णसाबितहोगा।बिजलीमंत्रालयकीतरफसेबतायागयाहैकिमंत्रालयनेसभीपक्षोंकेसाथविमर्शकरनेकेबादउक्तसंशोधनकामसौदातैयारकरलियाहै।

स्वच्छऊर्जाकेइस्‍तेमालकोदियाजाएगाबढ़ावा

इसकेतहतकिसीभीमैन्यूफैक्चरिंगइकाईयाउद्योगसमूहकोयहबतानाहोगाकिउसकीकुलऊर्जाखपतमेंअक्षयऊर्जाकीहिस्सेदारीकितनीहैजोकंपनीस्वच्छऊर्जाकाज्यादाइस्तेमालकरेंगीउन्हेंप्रोत्साहितकरनेकाभीप्रावधानहोगा।इसश्रेणीकीकंपनियोंकोउनकेकमकार्बनउत्सर्जनकेआधारपरएकसर्टिफिकेटदियाजाएगाजिसकाफायदाउन्हेंवित्तीयसुविधामिलनेमेंहोसकेगा।

बिजलीमंत्रीखुदकररहेनिगरानी

इससंशोधनविधेयककीतैयारियोंकीस्वयंबिजलीमंत्रीआरकेसिंहनिगरानीकररहेहैं।हालहीमेंउन्होंनेउच्चअधिकारियोंकेसाथइसकीसमीक्षाकी।सभीराज्योंवदूसरेविभागोंकीतरफसेप्राप्तसुझावोंकाभीअध्ययनकियागयाहै।पिछलेगुरुवारकोहीइसबारेमेंबिजलीमंत्रालयकीबैठकहुईथी।

ऊर्जासंरक्षणकानूनकेतहतगठितसंस्थानोंकेबढ़ेंगेअधिकार

बिजलीमंत्रालयकीतरफसेबतायागयाकिऊर्जासंरक्षणकानूनकेतहतजिनसंस्थानोंकागठनकियागयाहैउनकेअधिकारभीबढ़ाएजाएंगेताकिवोज्यादाप्रभावशालीभूमिकानिभासकें।एकअहमसंशोधनयहकियागयाहैकिकंपनियोंकोहरवर्षबतानाहोगाकिवोप्रत्यक्षऔरपरोक्षतौरपरकितनीअक्षयऊर्जाखर्चकररहेहैं।बिजलीमंत्रालयकाकहनाहैकिभारतनेवर्ष2005केमुकाबलेवर्ष2030मेंअपनेउत्सर्जनस्तरमें30से35फीसदकमीकरनेकाफैसलाहै।इसउद्देश्यकोहासिलकरनेकेलिएकईस्तरोंपरछोटे-छोटेकदमउठानेहोंगे।

बड़ेआवासीयभवनोंकोभीशामिलकरनेकीयोजना

बिजलीमंत्रालयचाहताहैकिवर्ष2040तकदेशमेंस्थापितबिजलीउत्पादनक्षमताका40प्रतिशतअक्षयऊर्जासेक्टरसेहो।इसकेलिएसोलर,विंडऔरदूसरेऊर्जास्त्रोतोंसे4.50लाखमेगावाटबिजलीबनानेकेलक्ष्यकेसाथआगेबढ़ाजारहाहै।सरकारीसूत्रोंकाकहनाहैकिआगेचलकरउक्तकानूनीसंशोधनकेदायरेमेंबड़ेआवासीयभवनोंकोभीशामिलकरनेकीयोजनाहै।