Uttarakhand Politics : यहां उप चुनाव नहीं हारते मुख्यमंत्री, मतदाताओं ने कभी नहीं किया निराश

विकासधूलिया,देहरादून:चम्पावतविधानसभाउपचुनावमेंमुख्यमंत्रीपुष्करसिंहधामीनेशानदारजीतदर्जकी।धामीउत्तराखंडकेपांचवेंमुख्यमंत्रीहैं,जोउपचुनावलड़करविधायकबने।वर्ष2002मेंमुख्यमंत्रीबननेकेबादनारायणदत्ततिवारीरामनगर,वर्ष2007मेंभुवनचंद्रखंडूड़ीधुमाकोट,वर्ष2012मेंविजयबहुगुणासितारगंजऔरवर्ष2014मेंहरीशरावतधारचूलासीटसेविधायकबने।

मतलब,उत्तराखंडकेमतदाताओंनेकिसीभीमुख्यमंत्रीकोउपचुनावमेंनिराशनहींकिया।वैसे,तीनबारऐसाभीहोचुकाहै,जबविधानसभाचुनावमेंमुख्यमंत्रीपराजितहोगए।वर्ष2012केविधानसभाचुनावमेंतत्कालीनमुख्यमंत्रीभुवनचंद्रखंडूड़ीकोटद्वारसीटहारगए।फिरवर्ष2017केविधानसभाचुनावमेंतबकेमुख्यमंत्रीहरीशरावतकिच्छाऔरहरिद्वारग्रामीण,दोनोंसीटोंपरपराजितहुए।हालमेंपांचवेंविधानसभाचुनावमेंमुख्यमंत्रीपुष्करसिंहधामीखटीमासीटगंवाबैठे।अबउन्होंनेचम्पावतमेंइसकीभरपाईकरदी।

सत्ताकेगलियारोंमेंपिछलेकुछसमयसेमंत्रियोंकोविभागीयसचिवोंकीवार्षिकगोपनीयआख्या,यानीएसीआरलिखनेकाअधिकारदेनेकामुद्दाखासीचर्चाबटोररहाहै।कईमंत्रीइसेलेकरआवाजउठाचुकेहैं।वैसे,राज्यमेंयहव्यवस्थापहलेसेहीहैकिसचिववप्रमुखसचिवस्तरकेअधिकारियोंकीएसीआरपरमंत्रीटिप्पणीकरसकतेहैं।यहबातअलगहैकिइसकापालनहोताहीनहीं।

इसीबीचएकमंत्रीनेअपनेविभागकेअंतर्गतजिलास्तरपरभीनिर्वाचितजनप्रतिनिधियोंकोअफसरोंकीएसीआरलिखनेकाअधिकारदेनेकीव्यवस्थाकीपहलकी,लेकिनलगतानहींकियहअंजामतकपहुंचपाएगी।इसकेबादहुआयहकिअफसरोंनेजनप्रतिनिधियोंकोसंकेतोंमेंसमझादियाकिऐसाहोनामुमकिननहीं,किसीमुगालतेमेंनरहें।साफहैकिमंत्रियोंकीमंशाभीपूरीहोनेकेनिकटभविष्यमेंकोईआसारनहीं।

उत्तराखंडमेंलगातारदूसरेविधानसभाचुनावमेंकरारीहारकास्वादचखचुकीकांग्रेसअबअपनीहारकेकारणोंकोलेकरचिंतनमेंजुटीहै।दोदिनदेहरादूनमेंप्रदेशप्रभारीदेवेंद्रयादवकीउपस्थितिमेंकांग्रेसनेन्यायपंचायतस्तरतकपार्टीसंगठनकोमजबूतकरनेपरजोरदिया।वक्ताओंकोचुनावपरटिप्पणीकरनेसेपरहेजकरनेकोकहागयाथा,लेकिनगुबारतोनिकलनाहीथा।

लिहाजा,जिलाध्यक्षोंसेलेकरयुवानेतापार्टीकीकरारीहारकेलिएबड़ेनेताओंकीनाकामीकोजिम्मेदारठहरानेसेनहींचूके।दिलचस्पयहरहाकिइसचिंतनशिविरकेअगलेहीदिनकांग्रेसकोदो-दोआघातएकसाथलगे।चम्पावतविधानसभाउपचुनावऔरराज्यसभासीटकेचुनावमेंभाजपाकीजीत।अबअगरभाजपानेताकहरहेहैंकिकांग्रेसकोचिंतनसेअधिकअपनेगिरतेवोटबैंककीचिंताकरनीचाहिए,तोशायदइसमेंकुछभीगलतनहीं।

एकतीरसेसाधेकईनिशाने

उत्तराखंडकीएकराज्यसभासीटकेचुनावमेंभाजपानेबाजीमारली।भाजपाकेपासविधानसभामेंदो-तिहाईबहुमत,तोकांग्रेसनेवाकओवरदेनाहीमुनासिबसमझा।ऐसेमेंभाजपाप्रत्याशीडाकल्पनासैनीनिर्विरोधचुनलीगईं।प्रत्याशीकेरूपमेंकल्पनासैनीकानामजरूरचौंकानेवालारहा।राज्यसभाजानेकोइच्छुकनेताओंमेंपूर्वमुख्यमंत्रीत्रिवेंद्रसिंहरावतकानामभीशामिलथा,लेकिननेतृत्वनेकल्पनासैनीकोअवसरदिया।इसतरहभाजपानेएकतीरसेकईनिशानेसाधे।महिलाओंऔरपिछड़ावर्गकोभीइससेप्रतिनिधित्वमिलगया।अबउत्तराखंडकीपांचोंलोकसभावतीनोंराज्यसभासीटोंपरभाजपाकाबिजहोगईहै।इनसांसदोंमेंतीनब्राह्मण,दोराजपूततथाएक-एकअनुसूचितजाति,ओबीसीववैश्यहैं।साथहीदोमहिलाएंभीसांसदहैं।यहपहलाअवसरहैजबराज्यमेंलोकसभावराज्यसभाकीसभीसीटेंभाजपाकेपासहैं।