उच्च न्यायालय ने गंगाराम अस्पताल के खिलाफ दर्ज मामले में दिल्ली सरकार से जवाब मांगा

नयीदिल्ली,15जून(भाषा)दिल्लीउच्चन्यायालयनेगंगारामअस्पतालद्वाराअपनेखिलाफदर्जप्राथमिकीकोखारिजकरानेकोलेकरदाखिलयाचिकापरसोमवारकोआमआदमीपार्टीकीसरकारसेजवाबतलबकिया।दिल्लीसरकारनेअस्पतालकेखिलाफकोविड-19नियमोंकेकथितउल्लंघनकोलेकरपांचजूनकोप्राथमिकीदर्जकराईथी।न्यायमूर्तिसीहरीशंकरनेवीडियोकांफ्रेंसकेजरियेमामलेकीसुनवाईकरतेहुएदिल्लीसरकारकोनोटिसजारीकियाऔरमामलेको11अगस्तकोअगलीसुनवाईकेलिएसूचीबद्धकरनेकानिर्देशदिया।याचिकामेंअंतरिमराहतकेतौरपरजांचऔरआगेकीकार्यवाहीपररोकलगानेकाअनुरोधकियागयाहैजिसपरअदालतमेंमंगलवारकोबहसहोगी।अस्पतालकीओरसेअदालतमेंउपस्थितअधिवक्तारोहितअग्रवालनेकहाकिवहपांचजूनकोराजेंद्रनगरपुलिसथानेमेंभारतीयदंडसंहिताकीधारा-188(सरकारीअधिकारीकेआदेशकीअवेहलना)केतहतदर्जमुकदमेऔरआगेकीप्रक्रियाकोरद्दकरनेकाअनुरोधकरतेहैं।याचिकामेंदिल्लीसरकारकेतीनजूनकेआदेशकोभीतत्कालरद्दकरनेकाअनुरोधकियागयाहैजिसमेंअस्पतालकोकोविड-19केसंदिग्धसंक्रमितों/संपर्कमेंआएलोगोंकीआरटी-पीसीआरजांचपररोकलगाईगईथी।उल्लेखनीयहैकि675बिस्तरोंवालेसरगंगारामअस्पतालकोदिल्लीसरकारनेकोविड19समर्पितअस्पतालघोषितकियाहैऔर80प्रतिशतबिस्तरोंकोकोरोनावायरससेसंक्रमितोंकेलिएआरक्षितरखनेकानिर्देशदियाहै।प्राथमिकीकेमुताबिक,शिकायतकर्तादिल्लीस्वास्थ्यविभागकेवरिष्ठअधिकारीनेआरोपलगायाकिअस्पतालदिशानिर्देशोंकेअनुरूपकोविड-19मरीजोंकेनमूनेलेनेकेलिएआरटी-पीसीआरऐपकाइस्तेमालनहींकररहाहैजबकिप्रयोगशालाओंकेलिएयहअनिवार्यहै।शिकायतकर्तानेयहभीआरोपलगायाकिअस्पतालकीओरसेमहामारीरोगकानून-1897केतहतजारीकोविड-19नियमोंकाभीउल्लंघनकियागया।प्राथमिकीकेमुताबिक,सीडीएमओसहमिशननिदेशकमध्यनेउल्लेखकियाहैकितीनजूनतकसरगंगारामअस्पतालआरटी-पीसीआरऐपकाइस्तेमालनहींकररहाथाजोमहामारीरोगकोविड-19नियमन-2020अधिनियमकासाफतौरपरउल्लंघनहै।उल्लेखनीयहैकिजांचप्रक्रियाकोसुचारुतरीकेसेकरनेकेलिएकेंद्रीयस्वास्थ्यमंत्रालयनेसमर्पितआरटी-पीसीआरमोबाइलऐपलॉन्चकियाहैजिसमेंप्रयोगशालाओंकोनमूनालेनेकेसाथजानकारीभरनीहोतीहै।इन्हींनिर्देशोंकेतहतदिल्लीसरकारनेभीसभीप्रयोगशालाओंवनमूनेएकत्रकरनेवालेकेंद्रोंकेलिएभीइसऐपकोडाउनलोडकरनाअनिवार्यकियाहै।