तमिलनाडु ने बिजली संकट के लिये केंद्र को जिम्मेदार बताया, अन्नाद्रमुक ने विधानसभा से किया बहिर्गमन

चेन्नई,22अप्रैल(भाषा)तमिलनाडुमेंबिजलीकटौतीकोलेकरशुक्रवारकोविपक्षीअन्नाद्रमुकनेविधानसभामेंसत्तारूढ़द्रमुकपरनिशानासाधाजबकिराज्यसरकारनेकेंद्रद्वाराअपर्याप्तकोयलेकीआपूर्तिऔरकेंद्रीयपूलसेबिजलीआपूर्तिमेंअचानकरुकावटकोइसकेलियेजिम्मेदारबताया।सत्तारूढ़दलनेविपक्षीदलपरबिजलीसंकटकेलियेगलतबयानीकरनेकाआरोपलगाया।इसबीचमुख्यमंत्रीएम.के.स्टालिननेप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीसेपारादीपऔरविशाखापत्तनमबंदरगाहोंकेसाथईंधनआपूर्तिसमझौतेकेअनुसारप्रतिदिन72,000मीट्रिकटनकोयलेकीआपूर्तिसुनिश्चितकरनेकेलिएकेंद्रीयकोयलामंत्रालयकोनिर्देशदेनेकाआग्रहकिया।स्टालिननेमोदीकोलिखेएकपत्रमेंकहा,‘‘केवलयहकदमहमेंराज्यमेंनिर्बाधबिजलीआपूर्तिबनाएरखनेमेंसक्षमबनासकताहैऔरइसलिएमैंइससंबंधमेंआपकेव्यक्तिगतहस्तक्षेपकीमांगकरताहूं।’’सदनमेंविशेषध्यानाकर्षणप्रस्तावकेजरिएबिजलीकीकमीकामुद्दाउठातेहुएविपक्षकेनेताके.पलानीस्वामीनेकहाकिअन्नाद्रमुककेशासनकेदौरान17,120मेगावाटबिजलीउपलब्धकराईगईथीताकियहसुनिश्चितहोसकेकिबिजलीकीकटौतीनहींहो।उन्हेांनेकहाकिगर्मीकेमौसममेंबिजलीकीखपतमेंवृद्धिकोध्यानमेंरखतेहुए,सरकारकोइसीकेअनुरूपबिजलीउत्पादनमेंतेजीलानीचाहिएथी।उन्होंनेकहाकिहालांकि,सरकारनेचालूसीजनमेंबिजलीसंयंत्रोंकेलिएआवश्यककोयलेकाभंडारणनहींकिया।ऑलइंडियाअन्नाद्रविड़मुनेत्रकषगम(अन्नाद्रमुक)नेतानेकहाकिबिजलीमंत्रीवीसेंथिलबालाजीनेपहलेकहाथाकिगर्मीकेमौसमकेलिएआवश्यककोयलाउपलब्धहै।हालांकि,बिजलीकटौतीहोरहीहैऔरखबरोंमेंकहागयाहैकियहकोयलेकीकमीकेकारणहै।उन्होंनेकहाकिविल्लुपुरम,कुड्डलोरऔरतिरुवन्नामलाईसहितकईजिलोंमेंबिजलीकटौतीकेमद्देनजरकृषिगतिविधियां,उद्योगऔरछात्रप्रभावितहुएऔरलोगरातमेंठीकसेसोनहींसके।सेंथिलबालाजीनेविपक्षीअन्नाद्रमुकपरइसमामलेमेंगलतबयानीकरनेकाआरोपलगाया।उन्होंनेबतायाकिसिर्फ41जगहोंपर796मेगावाटबिजलीकीकमीकेकारणकरीबआधेघंटेतकबिजलीआपूर्तिबाधितहुयी।उन्होंनेदावाकियाकिविपक्षीअन्नाद्रमुकद्वाराऐसारूपदेनेकीकोशिशकीजारहीहैजैसेउनकेशासनकेदौरानबिजलीकटौतीहुयीहीनहींथी।उन्होंने2017से2021तकअन्नाद्रमुकशासनकेदौरानबिजलीसंकटके68उदाहरणोंकाहवालादिया।हालांकि,मई2021मेंमुख्यमंत्रीस्टालिनकेपदभारग्रहणकरनेकेबादकेवलएकबारव्यवधानदेखागयाक्योंकिकेंद्रीयपूलसेआपूर्तिअचानकबाधितहोगईथी।उन्होंनेकहाकिमुख्यमंत्रीद्वाराइसमुद्देकेसमाधानकेलिएयुद्धस्तरपरकार्रवाईकीगई।उन्होंनेकहाकितमिलनाडुकोपांचसालकेभीतरबिजलीकीअधिकतावालाराज्यबनानेकेलिएउन्होंनेसभीकदमउठाएहैं।उन्होंनेकहाकिहालांकिराज्यकोपर्याप्तकोयलाउपलब्धनहींहै,फिरभीकोईबिजलीकटौतीनहींहोगी।पलानीस्वामीनेकहाकिसेंथिलबालाजीनेपहलेकोयलेकीउपलब्धताकाआश्वासनदेतेहुयेकहाकिबिजलीकटौतीनहींहोगी।मंत्रीकेजवाबकोसंतोषजनकनहींबतातेहुए,विपक्षकेनेतानेअपनीपार्टीकेविधायकोंकेसाथसदनसेबहिर्गमनकिया।मंत्रीनेकहाकिजबमुख्यमंत्रीनेकार्यभारसंभालाथातबराज्यसंचालितबिजलीनिगम(तमिलनाडुजेनरेशनएंडडिस्ट्रीब्यूशनकॉरपोरेशन)परकर्जकाबोझ1,60,000करोड़रुपयेथाऔरसरकारद्वारासुधारशुरूकिएगएहैंतथाकेंद्रसेकोयलेकीपर्याप्तआपूर्तिसुनिश्चितकरनेकाआग्रहकियाजारहाहै।चेन्नईकोछोड़करबुधवारऔरबृहस्पतिवारकोराज्यकेकईस्थानोंपरबिजलीकटौतीदेखीगई।स्टालिननेमोदीसेतत्कालसहायताकीमांगकरतेहुएकहाकिओडिशामेंतालचरखदानोंसेपर्याप्तकोयलेकाप्रावधानतमिलनाडुमेंबिजलीइकाइयोंकेलिएमहत्वपूर्णहै।उन्होंनेकहा,‘‘इससंबंधमें,तमिलनाडुकीइकाइयोंकेलिएकोयलेकीवर्तमानदैनिकप्राप्तिकेवल50,000मीट्रिकटनहै,जबकिआवश्यकता72,000मीट्रिकटनहै।’’मुख्यमंत्रीनेकहाकिभलेहीगर्मीमेंबिजलीकीबढ़तीमांगकोपूराकरनेकेलिएकोयलेकाउत्पादनपर्याप्तहै,लेकिनरेलवेद्वारारेककीकमआपूर्तिकेकारणइसेबंदरगाहोंतकनहींपहुंचायाजारहाहै।