सरकार को भ्रम है कि केवल पंजाब और हरियाणा के किसान ही कृषि कानूनों के खिलाफ जंग में शामिल हैं: सोरेन

(आसिमकमाल)नयीदिल्ली,21जनवरी(भाषा)झारखंडकेमुख्यमंत्रीहेमंतसोरेननेकृषिकानूनोंकोरद्दकरनेकेबजायइनकेकार्यान्वयनपररोकलगानेकेकेन्द्रसरकारकेप्रस्तावपरसवालउठातेहुएबृहस्पतिवारकोकहाकिसरकारइस''भ्रम''मेंहैकिइस''जंग''मेंकेवलपंजाबऔरहरियाणाकेकिसानशामिलहैं।उन्होंनेकहाकिदेशभरकेकिसानइन''दमनकारी''कानूनोंकोनिरस्तकरानाचाहतेहैं।उन्होंनेकहाकिअगरसरकारद्वारासहानुभूतिपूर्वककिसानोंकेआंदोलनकाहलनहींनिकालागयातोयहजल्दहीदेशकेअन्यहिस्सोंमेंफैलजाएगा।सोरेनने'पीटीआई-भाषा'कोदियेसाक्षात्कारमेंयहभीकहाकिनएकृषिकानूनोंकोलेकरसरकारऔरकिसानोंकेबीचजारीगतिरोधसेअंतरराष्ट्रीयमंचोंपरभारतकीछविकोनुकसानहुआहै।झारखंडमुक्तिमोर्चाकेकार्यकारीअध्यक्षसोरेननेकहाकिमहीनोंतककिसानोंकोसड़कोंपररहनेकोमजबूरकरनेकेबादकेन्द्रसरकारनेइनविवादितकानूनोंकोपूरीतरहनिरस्तकरनेकेबजायइनकेकार्यान्वयपरडेढ़सालकीरोकलगानेकाप्रस्तावरखाहै।उन्होंनेकहा,''वेसभी(किसान)जमीनसेजुड़ेहुएहैं।हमनेपिछलेसालएनआरसी-सीएएकोलेकरभीइसीतरहकेप्रदर्शनदेखेथे,जोएकविश्वविद्यालयसेशुरूहुएऔरबादमेंपूरेदेशकोअपनीजदमेंलेलिया।''मुख्यमंत्रीनेकहाकिकिसानइनकाकड़ाविरोधकररहेहैंतोसरकारइन्हेंवापसक्योंनहींलेलेती।उन्होंनेआरोपलगायाकिकेन्द्रसरकार''तानाशाहीरवैया''दिखारहीहै।मुख्यमंत्रीनेकहा,''नएकृषिकानूनदमनकारीहैं।इनसेकालाबाजारीऔरजमाखोरीबढ़ेगी।मैंइनकानूनोंकासमर्थननहींकरसकता।ऐसाकैसेसंभवहैकिकेन्द्रसरकारकाआलाकमानलगभगदोमहीनेसेप्रदर्शनकारीकिसाननिकायोंद्वारारखीगईंमांगोंपरकोईसर्वमान्यसमाधाननहींनिकालपारहा।''सोरेनसेजबपूछागयाकिक्याझारखंडसरकारकांग्रेसशासितकुछराज्योंकीतरहकृषिकानूनोंकेखिलाफकानूनपारितकरेगीतोउन्होंनेकहाकिउनकीसरकारघटनाक्रमोंपरकरीबीनजरबनाएहुएहैऔरइससंबंधमेंकेन्द्रसरकारकेअंतिमनिर्णयकीप्रतीक्षाकरेगी।उन्होंनेकहा,''किसानदेशवासियोंकापेटपालतेहैं।वेकेवलअपनीउपजकेलियेन्यूनतमसमर्थनमूल्यतयकरनेकीमांगकररहेहैं।हमइसमामलेमेंउच्चस्तरीयसमितिकागठनकरकेठोससमाधानकीसिफारिशकरेंगे।''