सरकार के फैसले से आंदोलन की राह पर कर्मचारी संगठन, बीजेपी नेता भवानी सिंह राजावत बोले- सरकार ने कोटा की चरमराई अर्थव्यवस्था पर फिर बिजली गिरा दी

राज्यसरकारनेकोटाथर्मलकीपहलीऔरदूसरीइकाई30जूनसेबंदकरनेकेआदेशदेदिएहैं।आदेशजारीहोनेकेबादसेहीकोटामेंविरोधकेस्वरउठनेलगेहै।शहरकेव्यापारी,राजनीतिकदलकेलोगसहितजनताआंदोलनकीराहपरहै।इधरथर्मलकर्मचारियोंमेंभीआक्रोशव्याप्तहोगयाहै।

राजस्थानविधुतउत्पादनकर्मचारीसंघकाकहनाहैकिकोरोनामहामारीकेदौरानकोटाथर्मलकीपुरानीदोनोंइकाइयोंकोबंदकरदेनेसेइसमेंकार्यरत300-400सेअधिकठेकाश्रमिकबेरोजगारहोजायेंगे।हिंदमजदूरसभानेभीसरकारकेनिर्णयकाविरोधजतातेहुएमुख्यमंत्रीकोपत्रलिखकरनिर्णयवापसलेनेकीमांगकीहै।

राजस्थानविधुतउत्पादनकर्मचारीसंघकेअध्यक्षरामसिंहशेखावतनेकहाकिकोटाथर्मलमेंविधुतउत्पादन3.93रूप्रतियूनिटकीदरसेकियाजारहाहै।जिसमेंफिक्सकॉस्ट0.61पैसेतथावेरियेबलकॉस्ट3.32रूप्रतियूनिटहै।कोटाथर्मलकीफिक्सकॉस्टनिजीक्षेत्रकेबिजलीघरोंसेकाफीकमहै।

इसतरह,कुलउत्पादनलागतकेमामलेमेंकोटाथर्मलनिजीक्षेत्रसेसस्तीबिजलीपैदाकररहाहै।उर्जावितरणकम्पनियोंद्वाराघरेलूउपभोक्ताओंकोवर्तमानमें10रूप्रतियूनिटकीदरसेबिजलीबेचीजारहीहै,ऐसेमेंकोटाथर्मलकीबिजलीकोमहंगीदरोंपरबतानाअनुचितहै।

कोटाकीअर्थव्यवस्थाकोगहराझटकालगा-शेखावत

शेखावतनेबतायाकिप्रदेशमेंजबभीग्रिडफैल्योरसेसुपरक्रिटिकलबिजलीघरोंकीइकाइयांठपहोजातीहै,उससमयकोटाथर्मलकीइकाइयोंसेतत्कालआपूर्तिबहालकरदीजातीहै,जिससेप्रदेशमेंकभीबिजलीसंकटपैदानहींहोसका।इसफैसलेसेकोटाशहरकीअर्थव्यवस्थाकोगहराझटकालगाहै।

इधरपूर्वविधायकवबीजेपीनेताभवानीसिंहराजावतनेकहाकिकोटाथर्मलकीबरसोंपुरानीदोइकाइयोंकोबंदकरनेकानिर्णयलेकरराज्यसरकारनेकोटाकीचरमराईअर्थव्यवस्थापरफिरबिजलीगिरादीहै।राजावतनेकोटाउत्तरविधायकवUDHमंत्रीशांतिधारीवालपरनिशानासाधाहै।

उन्होंनेकहाकिशान्तिधारीवालनेभाजपाशासनमेंकोटाथर्मलगेटपरश्रमिकोंकेबीचदहाड़-दहाड़करकहाथाकिहमाराराजआएगातोकोटाथर्मलकोबंदनहीहोनेदेंगे।लाॅकडाउनमेंकोचिंगहबऔरअबथर्मलबन्दहोनेसेकोटाकीअर्थव्यवस्थाकीरीढ़कीहड्डीटूटगईहैं,ऐसेमेंवोचुपक्योंहैं,सरकारमेंवेपावरफुलहै।वेकोटाकेहितमेंथर्मलकीइकाईयांबन्दकरवानेकानिर्णयतत्कालवापिसकरवादें।