संसद के शीतकालीन सत्र में आर्थिक सुधार से जुड़े छह विधेयक पेश करने की तैयारी, आर्थिक सुधार को मिलेगी और गति

नईदिल्ली,जागरणब्यूरो।कृषिसुधारपरएककदमपीछेखींचनेकेबावजूददूसरेआर्थिकसुधारोंकोलेकरसरकारढिलाईनहींबरतेगी।आगामीशीतकालीनसत्रमेंसरकारकमसेकमछहऐसेविधेयकपेशकरनेजारहीहैजोवित्तसेलेकरबिजलीसेक्टरतकमेंसुधारकीराहतेजकरेंगे।इसमेंसेकुछविधेयकोंकोलेकरराजनीतिकविरोधकेभीआसारहैं।खासतौरपरबिजलीसंशोधनविधेयक,2021कोलेकरराजनीतिकदलोंकेसाथहीकिसाननेताभीधमकीदेरहेहैं।

सरकारीबैंकोंकेनिजीकरणऔरबिजलीसेक्टरमेनएसुधारकीराहहोगीआसान

वैसेसरकारकोभरोसाहैकिआर्थिकसुधारसेजुड़ेविधेयकोंकोदोनोसदनोंसेपारितकरवानेमेंकोईपरेशानीनहींहोगी।शीतकालीनसत्रमेंबैंकिंगकानून(संशोधनविधेयक),2021पेशहोगा,जोसरकारीबैंकोंकेनिजीकरणकीराहआसानकरेगा।इसकेजरियेसरकारबैंकिंगकंपनीएक्ट,1970व1980औरबैंकिंगनियमनकानून,1949मेंसंशोधनकियाजाएगा।

यहविधेयकआमबजट,2021-22मेंबैंकनिजीकरणकोलेकरकीगईघोषणाकोअमलीजामापहनानेमेंमददकरेगा।वित्तमंत्रीनिर्मलासीतारमणनेतबदोसरकारीबैंकोंकेनिजीकरणकाएलानकियाथा।सरकारनेअभीतकसार्वजनिकतौरपरयहनहींकहाहैकिकिनदोबैंकोंकानिजीकरणहोगालेकिनमानाजारहाहैकिइसकेलिएइंडियनओवरसीजबैंक,बैंकआफमहाराष्ट्रऔरसेंट्रलबैंकआफइंडियाकानामचुनागयाहै।विधेयककेमाध्यमसेइनमेंसेदोबैंकोंकेनिजीकरणकीप्रक्रियामेंआनेवालीबाधाएंदूरकीजाएंगी।

शीतसत्रमेंपेशहोगाबिजलीसंशोधनकानून,2021

आर्थिकसुधारसेजुड़ाएकऔरमहत्वपूर्णविधेयकबिजलीसंशोधनकानून,2021है।वैसेतोइसविधेयककाप्रारूपदोवर्षोंसेतैयारहै,लेकिनकईवजहोंसेइसेपेशनहींकियाजासकाहै।यहबिजलीवितरणक्षेत्रमेंप्रतिस्पर्धाकोतेजकरेगाऔरग्राहकोंकोमोबाइलसेवाप्रदाताकीतरहबिजलीवितरणकंपनीचुननेकीआजादीदेगा।यहवितरणकंपनियोंकेलिएनवीनस्त्रोतोंसेबिजलीखरीदकोअनिवार्यबनाएगा।इससेपवनवसौरऊर्जाजैसेक्षेत्रोंकोज्यादाप्रोत्साहनमिलेगा।

बिजलीसेक्टरकोएकनईदिशादेनेमेंसफलरहेगानयाकानून

सरकारकामाननाहैकिबिजलीकानून,2003कीतरहहीयहविधेयकभीसमूचेबिजलीसेक्टरकोएकनईदिशादेनेमेंसफलरहेगा।लेकिनइसविधेयककेकुछप्रस्तावोंकोलेकरपूर्वमेंकिसानसंगठनोंकाफीविरोधकियााथा।उनकाकहनाहैकिसरकारकृषिक्षेत्रकोमिलनेवालीबिजलीसब्सिडीकोखत्मकरनाचाहतीहै।आर्थिकसुधारोंसेजुड़ाएकअन्यविधेयकपीएफआरडीए(संशोधन)विधेयक,2021है।जोदेशकेपेंशनसेक्टरकोमजबूतकरनेऔरहरकामगारकाभविष्यकोसुरक्षितकरनेकेलिएपेंशनफंडनियामकपीएफआरडीएकोज्यादाअधिकारसुनिश्चितकरेगा।इसीतरहसेइंसाल्वेंसीएंडबैंक्रप्सी(दूसरासंशोधन)विधेयक,2021कोभीकाफीमत्वपूर्णमानाजारहाहै।यहमौजूदादिवालियाकानून(आइबीसी)कोज्यादासशक्तबनाएगाऔरदिवालियाप्रक्रियाकोतेजीसेपूरीकरनेमेंबैंकोंकीमददकरेगा।