लॉकडाउन में सुभाष गोयल ने जलाया गरीबों का चूल्हा

जागरणसंवाददाता,कैथल:भारतसरकारकीतरफसेमार्च2020मेंकोरोनामहामारीकोलेकरलॉकडाउनलगायागयाथा,जोकरीबदोमाहतकचला।इसलॉकडाउनकेचलतेगरीबएवंजरूरतमंदपरिवारकोचूल्हाजलानामुश्किलहोगयाथा।इनपरिवारोंकीरोजी-रोटीकोलेकरसरकारकीतरफसेतोसुविधादीहीगई,वहींकईसंस्थाओंकीतरफसेभीगरीबपरिवारोंकोआर्थिकसहायतामुहैयाकरवाईगई।

राष्ट्रपतिएवंराज्यपालअवार्डसेसम्मानितसमाजसेवीसुभाषगोयलने700केकरीबपरिवारोंकोजहांसूखाराशनवितरितकिया,वहींमहाराजाअग्रसेनचैरिटेबलसंस्थाकीतरफसेकबूतरचौकस्थितधार्मिकस्थलगोगामैडीपरभंडारालगाकरएकसमयकाभोजनवितरितकियागया।यहांसेरोजानातीनसेचारहजारकेकरीबपैकेटदेनेकेसाथ-साथधार्मिकस्थलपरभीलोगोंकोभोजनकीसुविधाउपलब्धकरवाईगई।इसकेसाथकईसंस्थाएंजोलोगोंकोघर-घरजाकरराशनवितरणकरतीथी,उन्हेंभीपैकेटवितरितकिएगए।

बचपनसेहीसामाजिककार्योकेप्रतिरहीरुचि

समाजसेवीसुभाषगोयलबतातेहैंकिबचपनसेहीसामाजिककार्योंमेंरुचिरहीहै।वर्ष1982मेंधार्मिकस्थलगौगामैडीपरशहरकेअन्यलोगोंकेसाथमिलकरभंडाराशुरूकियाथा,जोआजभीचलरहाहै।उससमयइसभंडारेकीशुरूआततत्कालीनएसडीएमजेपीकौशिकनेकीथी।यहांरोजानासैकड़ोंगरीबपरिवारोंकेलोगभोजनग्रहणकरतेहैं।इसीतरहसेवर्ष1982मेंजबशहरकेबीचों-बीचपुरानाअस्पतालहोताथावहांदाखिलमरीजोंकेलिएसुबहकेसमयदूधकीव्यवस्थाकीहै।यहसुविधाहिदूसेवासमितिकीतरफसेकीगई।वर्ष1998मेंमहाराजाअग्रसैनचैरिटेबलसंस्थाकीतरफसेजींदरोडपरअस्पतालशुरूकियागया।यहां30रुपयेमेंरजिस्ट्रेशनकरतेहुएकमखर्चपरइलाजकियाजारहाहै।

सुभाषगोयलनेबतायाकिइसकेसाथ-साथदिव्यांगआश्रमसहितअन्यसंस्थाओंमेंभीउनकासहयोगरहताहै।गोयलकीतरफसेकिएजारहेसामाजिककार्योंकोदेखतेहुएहरियाणासरकारहीनहींबल्किहिमाचलप्रदेशसरकारभीउन्हेंसम्मानितकरचुकीहै।वर्ष2007मेंहरियाणाकेउससमयराज्यपालरहेएआरकिदवईकीतरफसेसम्मानितकियागया।इसकेसाथ-साथजिलाप्रशासनकीतरफसेकईबारसम्मानसेनवाजाजाचुकाहै।