कश्मीर को भारत से नहीं कर सकता कोई अलग, आतंकियों की झेलनी पड़ेगी कठोरता: गृहमंत्री अमित शाह

नईदिल्ली:घाटीसहितजम्मूकश्मीरकेप्रत्येकहिस्सेकेलोगोंकेविकासकेप्रतिनरेंद्रमोदीसरकारकीप्रतिबद्धताजतातेहुएगृहमंत्रीअमितशाहनेसोमवारकोकहाकिराज्यमें‘‘आतंकवादएवंअलगाववाद’’कोबिल्कुलबर्दाश्तनहींकियाजाएगा.गृहमंत्रीनेकहाकिऐसेलोगोंको‘‘कठोरताएवंकठिनाइयों’’कासामनाकरनापड़ेगा.शाहनेयहभीकहाकिराज्यमेंविधानसभाचुनावकेलिएचुनावआयोगजबभीतैयारहोगा,केन्द्रसरकारएकदिनकीभीदेरीनहींकरेगी.

अमितशाहनेजम्मूकश्मीरमेंराष्ट्रपतिशासनकीअवधितीनजनवरी2019तकबढ़ानेसंबंधीसंकल्पतथाजम्मूऔरकश्मीरआरक्षणविधेयक(संशोधन)विधेयक2019परएकसाथहुईचर्चाकेजवाबमेंराज्यसभामेंयहबातकही.गृहमंत्रीकेजवाबकेबादसदननेइससंकल्पऔरविधेयककोध्वनिमतसेपारितकरदिया.लोकसभाइन्हेंपहलेहीपारितकरचुकीहै.उच्चसदननेअध्यादेशकेखिलाफविपक्षद्वारापेशप्रस्तावकोध्वनिमतसेनामंजूरकरदिया.

इससेपहलेशाहनेचर्चाकाउल्लेखकरतेहुएकहाकिइसमेंयहबातसर्वमान्यरूपसेसामनेआयीहैकिजम्मूकश्मीरभारतकाअभिन्नअंगहै.यहसंदेशजम्मूकश्मीरमुद्देकाहलनिकालनेऔरघाटीकेलोगोंकामनोबलबढ़ानेमेंमददगारहोगा.उन्होंनेकहा,‘‘जम्मूकश्मीरदेशकाअभिन्नअंगहैऔरइसेहिन्दुस्तानसेकोईअलगनहींकरसकता.’’उन्होंनेकहाकिनरेंद्रमोदीसरकारकीआतंकवादकेप्रति‘‘कतईबर्दाश्तनहींकरने’’कीनीतिहैऔरहमउसकोहरपलनिभानेकेलिएप्रतिबद्धहैं.

राहुलगांधीसेमिलेकांग्रेसशासित5राज्योंकेसीएम,बोले-हमाराआग्रहमानेंगे,नहींछोड़ेंगेपद