किसान आंदोलन: फ़ोन की घंटी के इंतज़ार में बीते चार माह, नए कृषि क़ानूनों का भविष्य क्या है?

भारतकेप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीने30जनवरी2021कोकिसानसंगठनोंसेकहाथा,"केंद्रसरकारकेप्रस्तावपरअगरकिसाननेताचर्चाकरनाचाहतेहैंतोमैंबसएकफोनकॉलदूरहूँ."

इसबातकोचारमहीनेबीतगए.कोरोनामहामारीकेबीचसर्दियोंकेमौसममेंशुरूहुएआंदोलनकोलेकरगतिरोधजस-का-तसबनाहुआहैजबकिदेशमेंकोरोनोकीदूसरीलहरऔरगर्महवाओंकेथपेड़ेजारीहैं.

सवालयहीहैकिपहलेफोनउठाकरकॉलकौनकरेगा?पहलेआप,पहलेआपकेचक्करमेंकिसानआंदोलनकोशुरूहुएछहमहीनेबीतगएहैं.छहमहीनेपूरेहोनेकेमौकेपरबुधवारकोकिसानदेशभरमें'कालादिवस'मनारहेहैं.

कोरोनामहामारीमेंअबबॉर्डरपरडटेकिसानोंकीसंख्याज़रूरकमहुईहैलेकिनउनकादावाहैकिआंदोलनजारीहैऔरउनकीतैयारी2024तककीहै.

किसानसंगठनोंकेदावोंऔरकेंद्रसरकारकेकृषिसुधारकेवादोंकेबीचअबयेदेखनाज़रूरीहैकिआख़िरउनतीनक़ानूनोंकाभविष्यक्याहै?

सितंबरमेंतीनकृषिक़ानूनभारतकीसंसदनेपासकिए.उसकेबादउन्हेंराष्ट्रपतिसेमंजूरीभीमिलगई.लेकिनतुरंतहीमामलासुप्रीमकोर्टपहुँचगया.

कोर्टनेमामलेमेंचारसदस्यकमेटीकागठनकियागया,जिसेदोमहीनेमेंकोर्टकोरिपोर्टदेनीथी.तबतककेंद्रसरकारकोक़ानूनअमलमेंनलानेकेलिएकहागया.

यानीकोर्टकेफैसलेतकक़ानूनपररोकथी.संयुक्तकिसानमोर्चनेकमेटीकेसदस्योंकेनामपरआपत्तिजताई.कमेटीकेसामनेवोअपनीगुहारलेकरनहींगए.

एकसदस्यनेइस्तीफादेदिया.बाकीकेतीनसदस्योंनेदूसरेकिसानसंगठनोंकेसाथबातचीतकेबादसुप्रीमकोर्टकोअपनीरिपोर्टसौंपदीहै.उसरिपोर्टकोअभीतकसार्वजनिकनहींकियागयाहै.

दूसरीतरफ़,नएकृषिक़ानूनकेविरोधमें40किसानसंगठनोंनेअपनाएकमोर्चाबनाया,नामरखासंयुक्तकिसानमोर्चा.इससंगठनकेनेताओंकीकेंद्रसरकारकेसाथ11दौरकीबातचीतचली,जोअबतकबेनतीजाहीरही.

यहबातचीतइतनेतनावपूर्णमाहौलमेंहुईकिकिसाननेताविज्ञानभवनमेंहोनेवालीबैठकोंमेंअपनाखानालेजातेरहे,उन्होंनेसरकारीखानाखानेसेइनकारकरदिया.

केंद्रसरकारकीतरफ़सेआख़िरीप्रस्तावजोकिसानसंगठनोंकोदियागयाउसमेंकृषिसुधारक़ानूनों18महीनोंकेलिएटालदिएजानेकीबातकहीगईथी.

लेकिनसंयुक्तकिसानमोर्चानेयेप्रस्तावभीनामंजूरकरदिया,वेतीनोंकानूनोंकोरद्दकरनेकीमाँगपरअड़ेरहेऔरउन्हेंकालाकानूनकहतेरहे.यानीसंयुक्तकिसानमोर्चानतोसुप्रीमकोर्टकीकमेटीकेसामनेगया,नहीसरकारकाप्रस्तावमंज़ूरकिया.

येज़रूरहैकि22जनवरी2021सेबंदपड़ीबातचीतकोदोबाराशुरूकरनेकोलेकरएकचिट्ठीप्रधानमंत्रीकोलिखीहै.इसचिट्ठीकेजवाबकाउनकोबेसब्रीसेइंतज़ारहै.

इसबीच26मईको'कालादिवस'मनानेकाऐलानकियागयाहै.पहलेदिल्लीबॉर्डरपरदोबारासेकिसानोंकोबुलानेकीयोजनाथीलेकिनकोरोनामहामारीकीजगहइसेस्थगितकरकेजोजहाँहै,वहीं'कालादिवस'मनाए,ऐसीघोषणाकीगईहै.

ऐसेमेंसवालउठताहैकिउनकृषिक़ानूनोंकाक्याजिसेसरकारकृषिक्षेत्रकेलिएलाभकारीबतारहीथी.क्यावोठंडेबस्तेमेंयूंहीपड़ेरहेंगे?याफिरसुप्रीमकोर्टकानिर्णयहीअंतिमफैसलाहोगा?औरअगरकोर्टसेभीहलननिकलातोइनकाक्याहोगा?

सभीपक्षोंसेजुड़ेजानकारमानतेहैंकिनएकृषिक़ानूनमेंकुछमसलेराजनीतिकहैं,तोकुछक़ानूनीभी.इसवजहसेसमाधानभीदोनोंतरहसेढूंढनेकीज़रूरतहोगी.

पीआरएसलेजिस्लेटिवरिसर्चकेसह-संस्थापकऔरअध्यक्षएमआरमाधवनसेबीबीसीनेइसबारेमेंबातकी.यहसंस्थाभारतकीसंसदकेकामकाजकाविस्तृतलेखा-जोखारखतीहै.

उनकाकहनाहैकि"सुप्रीमकोर्टकेपासइसबातपरफैसलासुनानेकाअधिकारहैकिनएकृषिक़ानूनसंवैधानिकहैयानहीं.येअधिकारसुप्रीमकोर्टकोभारतकेसंविधानसेहीमिलेहैं.कोर्टकाफैसलाआनेतकनएकृषिक़ानूनकोस्थगितकरनेकाअधिकारभीउनकेपासहै.लेकिनयेक़ानूनउचितहैंयानहीं-इसपरफैसलासुनानेकाअधिकारसुप्रीमकोर्टकेपासनहींहै."

जबसंयुक्तकिसानमोर्चानेकमेटीकीसिफारिशेंआनेसेपहलेहीउसेमाननेसेमनाकरदियाहो,ऐसीसूरतमेंमाधवनसंभावितस्थितियोंकीबातकरतेहैं--

·सुप्रीमकोर्टमामलेकीअगलीसुनवाईमेंक़ानूनसंवैधानिकहैयानहीं,इसपरफैसलासुनादे.

·अगरक़ानूनकोसंवैधानिककरारदियाजाताहैतोकेंद्रसरकारसरकारकेपासदोविकल्पहोंगे

पहलातोयेकिसरकारइसीरूपमेंनएक़ानूनकोलागूकरनेकेलिएआगेबढ़ेसकतीहै.फिरउसकेपरिणामजैसेहोंउससेनिपटनेकेलिएसरकारतैयाररहे.

दूसरायेहोसकताहैकिकोर्टइसेसंवैधानिककरारदेदे,उसकेबादभीकेंद्रसरकारकिसानोंकीसलाहपरक़ानूनमेंकुछबदलावकरसकतीहै.

·अगरक़ानूनअसंवैधानिककरारदियाजाताहैतोकेंद्रसरकारनएकृषिक़ानूनकोवापससंसदमेंलेजासकतीहै,औरनएसिरेसेचर्चाकराकरबदलेहुएकानूनपारितकरासकतीहै.

माधवनकहतेहैं,"फिलहालजबक़ानूनपरसुप्रीमकोर्टकीतरफ़सेरोकहै,ऐसेमेंकेंद्रसरकारनेउसकेलिएनियमनहींबनाएहैं.औरनहीवोऐसातुरंतकरनेकेलिएबाध्यहै.दरअसल,क़ानूनपासहोनेकेबादउसकेप्रावधानबनानेकेलिएकोईसमय-सीमानिर्धारितनहींहै.जैसालोकपालबिलकेसाथहुआ.भारतमेंलोकपालक़ानूनसंसदनेपासकरदियाहै,लेकिनलोकपालकीनियुक्तिआजतकनहींहुईहै.ठीकवैसाहीनएकृषिक़ानूनपरभीसंभवहै."

नएकृषिक़ानूनकेभविष्यपरएकसुझावभारतीयकिसानसंघकेराष्ट्रीयसचिवमोहिनीमोहनमिश्राकाभीहै.बीबीसीसेबातचीतमेंवोकहतेहैं,"देशभरकेकिसानोंकाप्रतिनिधित्वसंयुक्तकिसानमोर्चानहींकरता.इससंगठनकेअंदरआनेवालेज़्यादातरकिसानपंजाब,हरियाणाऔरपश्चिमीउत्तरप्रदेशकेहैं.सरकारकोक़ानूनकेप्रावधानबनातेवक़्तकेवलइतनाकरनाहैकिइसेराज्यसरकारोंपरछोड़दे,यानीपंजाबहरियाणाजैसेराज्यजोइसेलागूनहींकरनाचाहते,वेनकरें,औरबाकीदेशमेंयहलागूहोजाए."

भारतीयकिसानसंघकीरायहैकिकेंद्रसरकारसुप्रीमकोर्टमेंजाकरकहेकिकोर्टनेभीकोशिशकरली,केंद्रनेभीकोशिशकरली.अबकोर्ट,केंद्रकोक़ानूनलागूकरनेकीइजाजतदेदे.

मिश्राकाकहनाहैकिकेवलसंयुक्तकिसानमोर्चाकेतहतआनेवालेकिसानसंगठनोंकीमाँगहैकिकृषिबिलवापसलिएजाए,बाकीसंगठनऐसानहींचाहते.

उनकेमुताबिक,देशकेबाकीकिसानसंगठनथोड़ेबदलावकेसाथइननएकृषिबिलकोमाननेकेलिएतैयारहैं.सरकारउनबदलावोंकेलिएतैयारभीदिखरहीहैजैसेफसलख़रीदनेवालेव्यापारियोंकेलिएअलगसेपोर्टल,व्यापारियोंकेलिएबैंकगारंटीकोअनिवार्यबनाना,किसीभीविवादकीसूरतमेंमामलेकानिपटाराज़िलास्तरपरहोना.

अपनीमाँगोंकोलेकरवोकहतेहैंहमेंनएकृषिक़ानूनमेंमूलत:यहीतीनबदलावचाहिए,जोप्रावधानबनातेसमयआसानीसेशामिलकिएजासकतेहैं.इसकेअलावावोयेभीचाहतेहैंकिएमएसपीपरफसलख़रीदकोलेकरकेंद्रऔरराज्यसरकारेंकोईप्रावधानज़रूरबनाएँ.

किसानआंदोलन:आरएसएससेजुड़ेसंगठनोंकोभीएमएसपीपरकोईबरगलारहाहै?

संयुक्तकिसानमोर्चाख़ुदकोपंजाब,हरियाणाऔरपश्चिमीउत्तर-प्रदेशतकसीमितनहींमानते.उनकेमुताबिक़फिलहालक़ानूनस्थगितहै,लेकिननएक़ानूनपरसेयेस्टेकभीभीहटायाजासकताहै,इसलिएउनकेपासआंदोलनजारीरखनेकेअलावाकोईविकल्पनहींहै.

बीबीसीसेबातचीतमेंसंयुक्तकिसानमोर्चाकेसदस्ययोगेंद्रयादवनेकहा,"कोरोनाकेमद्देनज़रउनकाआंदोलनधीमानहींपड़ाहै.लेकिनएहतियातकेतौरपरउन्होंनेख़ुदकिसानोंसेआग्रहकियाहैकिवो26मईकोदिल्लीआएंलेकिनजत्थेमेंनहीं.कुछसमयकेलिएआमलोगोंकाऔरमीडियाकाध्यानआंदोलनसेज़रूरहटाहै,लेकिनकिसानअबभीबॉर्डरपरडटाहै."

आंदोलनकबऔरकैसेख़त्महोगा?इससवालकेजवाबमेंवोकहतेहैं,"सचतोयेहैकिसरकारकेपासकिसानोंकोदेनेकेलिएकुछनहींहै.सरकारकीहिम्मतनहींहैऐसेकिसीक़ानूनकोदोबारालागूकरनेकी.आजकेंद्रसरकारसुप्रीमकोर्टकीआड़मेंबैठीहै.कलकोईऔरबहानाहोजाएगा.लेकिनअपनेघमंडकेकारणवोइसेलिखनेमेंकतरारहीहै.आंदोलनकैसेख़त्महो?इसकारास्तासरकारकोनिकालनाहै.येज़िम्मेदारीकुर्सीपरबैठनेवालेकीहोतीहै.अगरवोकुर्सीपरबैठकरनयाप्रस्तावनहींदेसकते,तोउतरजाएँ."

संयुक्तकिसानमोर्चाकेहीदूसरेसदस्यऔरमध्यप्रदेशकेकिसाननेताशिवकुमारकक्काजीकहतेहैं26मईकेआगेउनकीतैयारी2024तककेलिएहोगईहै.लेकिनवोक्याहै?इसपरवोज़्यादानहींबताते.

इससालजनवरीफरवरीतकराजनीतिकविश्लेषकोंकोलगरहाथाकिकिसानआंदोलनऔरनएकृषिक़ानूनकाभविष्यपाँचराज्योंकेविधानसभाचुनावसेजुड़ाहै.लेकिनअबचुनावख़त्महोगएहैं,नतीजेभीसामनेआगए.हारऔरजीतकेकारणोंकासभीपार्टियाँविश्लेषणभीकररहीहैं.

लेकिनसंयुक्तकिसानमोर्चामेंकईकिसाननेताओंकोलगताहैकिउन्होंनेबंगालमेंजाकरजोप्रचारकिया,बीजेपीकीपश्चिमबंगालमेंहारकेपीछेवोभीएककारणहै.उन्हेंलगताहैकिचुनावमेंबीजेपीकीहारहीउनकीकमज़ोरनब्ज़है.

बीजेपीकोभलेआंदोलनसेफ़र्कपड़ेनापड़े,लेकिनचुनावहारनेसेज़रूरफ़र्कपड़ताहै.

इसवजहसेइसबातकीपूरीसंभावनालगतीहैकिअगलेचरणमेंसंयुक्तकिसानमोर्चा'मिशनयूपी'मेंप्रचारकेलिएजुटेगी.हालांकिइसकाआधिकारिकएलाननहींहुआहै,लेकिनइससेइनकारभीनहींकियाजारहा.

उत्तरप्रदेशमेंपंचायतचुनावमेंबीजेपीकाप्रदर्शनउम्मीदसेकमरहाहै.इससेभीकिसाननेताथोड़ेउत्साहितहै.नामनाछापनेकीशर्तपरएककिसाननेतानेकहा,"बंगालमेंजबगएतोछहहफ़्तेभीहमारेपासनहींथे,हमारीसंगठनकीउतनीपहुँचभीनहींथी,लेकिनउत्तरप्रदेशचुनावमेंतोअभीवक़्तहै.हमआजसेएक-एकगाँवमेंजाकरबैठेंगे,किसीपार्टीकासपोर्टनहींकरेंगे.बसइतनाकहेंगे,किसानविरोधीसरकारकोहटाओ."

हरवीरसिंहकृषिमामलोंकेजानकारपत्रकारहैंऔरग्रामीणभारतसेजुड़ीएकवेबसाइटचलातेहैं.पश्चिमीउत्तरप्रदेशकोउन्होंनेसालोंसेकवरकियाहै.बीबीसीसेबातचीतमेंवोकहतेहैं,"बीजेपीकोकिसानोंके'मिशनयूपी'डरज़रूरसतारहाहै.उसीराजनीतिकनुक़सानकोकुछकमकरनेकेलिएकेंद्रसरकारनेखादसब्सिडीबढ़ानेकाफैसलाहालहीमेंलियाहै.इसक़दमसेस्पष्टसंकेतमिलतेहैंकिकेंद्रसरकारकिसानोंकीऔरनाराज़गीमोलनहींलेनाचाहतीहै."

दरअसल,डाईअमोनियमफ़ॉस्फेटखादकेदामइससालअप्रैलमें1200रुपयेप्रतिबोरीसेबढ़कर1700रुपयेप्रतिबोरीहोगईथी.इसखादकाइस्तेमालज़्यादातरफसलोंमेंकियाजाताहै.इससेकिसानऔरज़्यादानाराज़होरहेथे.सरकारनेआनन-फाननमेंबैठकबुलाकरजितनेदामबढ़ेउतनीहीसब्सिडीदेदीथी.

लेकिनसंयुक्तकिसानमोर्चाइससब्सिडीसेभीखुशनहींदिखती.योगेंद्रयादवकहतेहै,"मैंआपकोकहदूंकिकलतकजोचीज़5रुपयेमेंमिलरहीथी,उसकेदाममैंने15रुपयेकरदिएहैं,लेकिन10रुपयेकीसब्सिडीदेंगे,तोक्याआपउस10रुपयेकीसब्सिडीकाजश्नमनाएंगें?इसेसब्सिडीनाहीकहाजाएतोअच्छाहै."

उत्तरप्रदेशविधानसभाचुनावमेंअब8-10महीनेकावक़्तबचाहै.पंचायतचुनावकेनतीज़ोंमेंपश्चिमउत्तरप्रदेशमेंबीजेपीकाप्रदर्शनवैसानहींरहाजैसापार्टीकोउम्मीदथी.बीकेयूकाअसरपश्चिमीउत्तरप्रदेशमेंइन्हींइलाकोंमेंहै.येबातेंभलेहीकृषिक़ानूनसेसीधेनाजुड़ीहों,लेकिनक़ानूनपरकेंद्रसरकारकेरूखकोज़रूरप्रभावितकरेंगी.ऐसाहरवीरमानतेहैं.

इससेसमझाजासकताहैकिएकतरफ़किसानआंदोलनसेकेंद्रसरकारदबावमेंहैतोदूसरीतरफ़किसानसंगठनोंकेसामनेचुनौतीकोरोनामहामारीमेंआंदोलनकोज़िंदारखनेकीहै.

कृषिक़ानून:क्याहैंप्रावधान,क्योंहोरहाहैविरोध

पंजाबकीखेतीगेहूं,धानऔरMSPसेआबादहोरहीहैयाबर्बाद?

किसानआंदोलन:MSPपरमाँगमानक्योंनहींलेतीमोदीसरकार?

(बीबीसीहिन्दीकेएंड्रॉएडऐपकेलिएआपयहांक्लिककरसकतेहैं.आपहमेंफ़ेसबुकऔरट्विटरपरफ़ॉलोभीकरसकतेहैं.)