केजरीवाल की मुफ़्त मेट्रो नीति से बदलेगी महिलाओं की ज़िंदगियां?

दिल्लीमेंमहिलाओंकेलिएमेट्रोऔरबसयात्रामुफ़्तकिएजानेकेदिल्लीसरकारकेनिर्णयकेबादसेहीसोशलमीडियासेलेकरशहरकीसड़कोंतकपरइसमुद्देकोलेकरतीखीबहसछिड़ीहुईहै.

दिल्लीकाएकवर्गजहांइसनिर्णयकोमहिलाओंकेहितमेंएकअच्छाकदमबतातेहुएइसकास्वागतकररहाहै,वहींदूसरावर्गइसेमुफ़्तख़ोरीकोबढ़ावादेनेवालाअरविंदकेजरीवालसरकारकाएकचुनावीस्टंटबतारहाहै.

इसफ़ैसलेकोदिल्लीकेमाहौलकीरोशनीमेंदेखनाज़रूरीहै.इसनिर्णयकोसमझनेकेलिएज़रूरीहैदिल्लीकीसामाजिकबुनावटकोसमझना.

देशकेदिल'दिल्ली'कीसबसेख़ासबातयहहैकियहकिसीएककीनहीं.यहआज़ादीकेबादशहरकेकरोलबाग़,राजौरीगार्डनऔरमालवीयनगरजैसेइलाक़ोंमेंआकरबसेतत्कालीनशरणार्थियोंकीभीउतनीहीहै,जितनीकिउनअनुमानित33प्रतिशतप्रवासियोंकी,जोएकबेहतरज़िंदगीकासपनालेकरदिल्लीआतेहैं.

दिल्लीबँटवारेकेवक़्तभारतमेंहीरहनेकाचुनावकरनेवालेजामामस्जिद-दरीबांकलांकेबाशिंदोंकीभीउतनीहीहैजितनीसाठकेदशकमेंतत्कालीनपूर्वीपाकिस्तानसेविस्थापितहोकरचितरंजनपार्कमेंबसेबंगालियोंकी.

उच्चशिक्षा,बेहतरनौकरीयासिर्फ़मज़दूरीकीतलाशमेंहरदिनसैकड़ोंकीतादादमेंदिल्लीकारुखकरनेवाली'माइग्रेंट'जनसंख्याकोभीयहांसस्तीबस्तियोंमेंपनाहमिलजातीहै.

मीडियासेबातचीतमेंआमआदमीपार्टीकीसरकारसेसाफ़कहाहैकिमहिलाओंकोमेट्रोतथाबसोंमेंमुफ़्तयात्राउपलब्धकरवानेकीउनकीइसनईनीतिकाटार्गेटग्रुपयहांरहनेवाले'सबसेअमीर'लोगनहींहैं.नहीदिल्लीमेंफैलीपुरानीनौकरशाही,समृद्धव्यापारीवर्गयादिल्लीकाविशालअपरमिडलक्लास.इसनीतिकालक्ष्यसमाजकेनिचलेतबकेसेआनेवालीउनमहिलाओंकोलाभपहुंचानाहैजिन्हेंहररोज़कामपरजानेकेलिएपब्लिकट्रांसपोर्टकाइस्तेमालकरनापड़ताहै.

साथही,वेसक्षममहिलाएंजिनकेपासमेट्रोयाबसमेंअपनेटिकटख़ुदख़रीदनेकासामर्थ्यहै,सरकारउन्हेंअपनेपैसेख़ुदभरनेकेलिएप्रोत्साहितभीकरतीहैताकिइससब्सिडीकासहीफ़ायदाज़रूरतमंदमहिलाओंतकपहुंचसके.

दिल्लीमेंरहनेवालीजनसंख्याकीविविधताकोदेखतेहुएयहकहनाग़लतनहींहोगाकीराज्यसरकारकेइसनएजनकल्याणकारीकदमसेशहरकीहज़ारोंज़रूरतमंदमहिलाओंकोसीधाफ़ायदापहुंचेगा.

यहांयहबतानाभीज़रूरीहैकिताज़ाआकंडोंकेअनुसारकामकाजीभारतीयवर्कफ़ोर्समेंमहिलाओंकीराष्ट्रीयहिस्सेदारी2005के36.7प्रतिशतसेघटकर2018मेंमात्र26प्रतिशतरहगयाहै.दिल्लीजैसेमहानगरमेंयहआँकड़ाआजमात्र11प्रतिशतपरटिकाहुआहै.

इसलिहाज़सेदेखेंतो#फ़्रीमेट्रोफ़ॉरविमेनकीनीतिदिल्लीमेंमहिलाओंकेकामकेदायरेकोबढ़ानेमेंमददकरेगी.मिसालकेतौरपर,नौकरीकेलिएमुफ़्तमेट्रोकीवजहसेनोएडामेंरहनेवालीएककामक़ाज़ीमहिलाबेहतरविकल्पकीतलाशमेंगुड़गाँवतकजानेमेंभीसहूलियतहोगी.

कामकादायराबढ़ानेकेसाथ-साथमुफ़्तपब्लिकट्रांसपोर्टमहिलाओंकोघरोंसेबाहरनिकलकरकामढूँढनेमेंभीमददगारहोगा.

साथही,ऐसेसमाजमेंजहांलड़कियोंकीशिक्षाऔरकरियरमेंकिसीभीतरहके'निवेश'कोपरंपरागततौरपर'फ़िज़ूल'मानाजाताहै,वहांमुफ़्तमेट्रोकीवजहसेलड़कियांऊँचीशिक्षाऔरनौकरीकेलिएनेशनलकैपिटलरीज़नकेअलग-अलगकोनोंमेंजासकेंगी.

केजरीवालकेआलोचकोंकाकहनाहैकि2020मेंहोनेवालेराज्यचुनावोंकेलिएरणनीतिकतौरपरआमआदमीपार्टीकीराज्यसरकारयहलोकलुभावनकदमउठारहीहै.

इसनईनीतिकेसामनेकईचुनौतियांभीहैं.पहलीचुनौतीहैइसनीतिकेलिएजारीकिएगएबजटकीस्थिरता.यूंतोआपसरकारनेमीडियामेंबयानदेतेहुएकहाहैकिउनकेपासट्रांसपोर्टकेऊपरहीख़र्चकिएजानेवालेबजटमेंमौजूद'सरप्लसबजट'हैजिसेवहइसनईनीतिकेपालनमेंइस्तेमालकरेंगेलेकिनयहनिवेशकितनास्थाईहोगा,यहदेखनेवालीबातहै.

दूसरीचुनौतीयेहैदिल्लीकेट्रांसपोर्टनेटवर्ककोआख़िरीनागरिकतककेलिएसुलभबनाना,क्योंकिअगरमुफ़्तट्रांसपोर्टहोनेकेबादभीमहिलाओंकोसुबहकामपरजानेकेलिएबसपकड़नेघरसेचारकिलोमीटरकासफ़रपैदल/रिक्शाकेज़रिएतयकरनापड़ेतोउनकीसुरक्षाकाप्रश्नजसकातसबनारहेगा.

2012केदिसम्बरगैंगरेपजैसेक्रूरदुर्भाग्यशालीघटनाकीसाक्षीरहीदिल्लीसेज़्यादासुरक्षित-सुलभऔरसस्तेपब्लिकट्रांसपोर्टकीक़ीमतकौनसमझेगा?