जिंदगी की गाड़ी कोरोना की दूसरी लहर में लड़खड़ाई

जागरणसंवाददाता,औरैया:जैसे-तैसेपटरीपरलौटीजिदंगीकीगाड़ीकोरोनाकीदूसरीलहरमेंएकबारफिरलड़खड़ानेलगीहै।कोरोनाकीपहलीलहरमेंजो-जोदंशझेलनेकोमिला,उसेशायदहीकोईभूलाहो।लॉकडाउनकाहटा'ग्रहण'एकबारफिरलगगयाहै।जेहनमेंइसीदर्दकेसाथदिल्लीसेलौटरहेप्रवासियोंकेचेहरेपरउदासीहै।मंगलवारकोरोडवेज,रेलवेस्टेशनपरप्रवासीदिखेलेकिनपरेशान।उनकेसामनेसबसेबड़ीसमस्याउन्हेंमंजिलतकपहुंचानेकेलिएपर्याप्तसंसाधनोंकीरही।ऐसेमेंकुछप्रवासियोंनेबयांकियाअपनादर्दऔरबताईकोरोनासेहुएलॉकडाउनसेमिलनेवालीतकलीफें।ज्यादातरप्रवासियोंकाकहनाथाकिवहकोरोनाकीपहलीलहरनहींभूलेहैं।सबठीकरहातोवहलौटेंगे।दिल्लीमेंअपनीबहनकेयहांपिछलेपखवारेगयाथा।घूमनाभीहोजाएगा,साथहीकोईकाममिलगयातोकरूंगा।लेकिनलॉकडाउनकीवजहसेघरवापसकानपुरलौटनापड़ा।पतानहींआगेकैसीस्थितियांबनजाएं।

नोएडामेंरहकरगार्डकीड्यूटीकररहाहूं।दिल्लीमेंलॉकडाउनलगनेसेघरवापसआगया।कहींस्थितिऔरज्यादानबिगड़जाए।कमसेकमअपनेपरिवारकेसाथरहकरइसआपदाकासामनाकरेंगे।

आगरामेंताजमहलपरड्यूटीकरतीहूं।लेकिनयहांपरआवागमनलोगोंकाबंदकरदियागया।जिसकीवजहसेवहवापसकानपुरजारहीहैं।स्थितियांबहुतखराबहैं।आगरासेऔरैयातकआनेमेंतीनबसेंबदलनीपड़ीं।रास्तेमेंबेहदपरेशानीकासामनाकरनापड़ा।