जानिये- महात्मा गांधी ने दिल्ली में कितने दिन बिताए थे

नईदिल्ली(किशनकुमार)।गांधीजीकादिल्लीसेकाफीलगावथा।यहीकारणथाकिउन्होंनेजीवनके720दिनदेशकेदिलदिल्लीमेंरहकरगुजारेथे।दिल्लीसचिवालयमेंचलरहीप्रदर्शनीकेमाध्यमसेगांधीवउनकेदिल्लीसेजुड़ेलगावकेबारेमेंकुछइसीतरहकीरोचकजानकारीलोगहासिलकरसकेंगे।अभिलेखागारविभागकीओरसेआयोजितइसप्रदर्शनीकाबुधवारकोउद्घाटनकियागया।यह19अक्टूबरतकचलेगी।

अभिलेखागारकेअधिकारीसंजयगर्गनेबतायाकिइसमेंगांधीकेजीवनसेजुड़ीदिल्लीकीस्मृतियोंकेदस्तावेजोंकीप्रदर्शनीलगाईगईहै।उन्होंनेबतायाकिगांधीजीने1915से1948केबीच80बारदिल्लीकारुखकियाथा।

उन्होंनेबतायाकिजबगांधीजीपहलीबार12अप्रैल1915मेंदिल्लीआएथेतोवेसेटस्टीफनकॉलेजकेप्रधानाचार्यवअपनेखासमित्रसुशीलकुमाररुद्रकेयहांरुकेथे।उन्होंनेकहाकिजबबापूअपनेमित्रसुशीलकेसाथउनकेकॉलेजगएथेतोवहांमौजूदअन्यशिक्षकगांधीजीसेप्रभावितहोकरस्वतंत्रताआंदोलनमेंभागलेनेकेलिएआगेआएथे।

यहभीकहाजाताहैकिअसहयोगआंदोलनववायसरॉयकोओपनलेटरगांधीजीनेकश्मीरीगेटस्थितरुद्रहाउससेहीलिखाथा।इसीकेसाथरुद्रहाउसमेंहीगांधीजीकांग्रेसनेताहाकिमअजमलखांसाहिबसेमिलनेकेलिएराजीहुएथे।उन्होंनेबतायाकिसन्1918मेंगांधीजीनेदोबारादिल्लीकारुखकियाथा।इसबारवेसेटस्टीफनकॉलेजकेछात्रबृजकृष्णचांडीवालाकेयहांरुकेथे।उससमयगांधीजीयहां21दिनकेलिएरुकेथे।

गर्गनेबतायाकिउससमयगांधीजीनेयहांरुककरलोगोंमेंरोलेटएक्टकेखिलाफभावनाकोजागृतकरनेकाकामकियाथा।गांधीजीकीओरसेकिएजारहेविरोधकोदेखकर1919मेंब्रिटिशसरकारनेउनकोनजरबंदीकाआदेशसौंपकरपलवलकेपासउनकेदिल्लीमेंप्रवेशपररोकलगादीथी।

गर्गनेबतायाकि23नवंबर1919कोगांधीजीनेदिल्लीआकरऑलइंडियाखिलाफतकान्फ्रेंसमेंअपनीउपस्थितिदर्जकराईथी।इसकेबादवे1946से1947तकमंदिरमार्गस्थितहरिजनकॉलोनीस्थितवाल्मीकिमंदिरमेंरुकेथे।यहांउन्होंनेअपनेजीवनके214दिनगुजारेथे।इसकेबाद30जनवरी1948कोगांधीजीकीहत्याकरदीगईथी।