गोसाईं खेड़ा की दलित बस्ती में पांच साल पहले लगे बिजली के पोल, नहीं लगाए तार

संवादसूत्र,जुलाना:गोसाईखेड़ागांवमेंदलितबस्तीमेंकरीबपांचवर्षपहलेबिजलीनिगमनेपोलवट्रांसफार्मरतोलगादिया,मगरइनपोलोंपरकेबललगानाभूलगया।पंचायतनेछोटेसेबड़ेअधिकारियोंतकगुहारलगाई,लेकिनकुछअसरनहींहुआ।ग्रामीणोंनेप्रशासनकेखिलाफनारेबाजीकरतेहुएपोलोंपरकेबललगानेकीमांगकीहै।गोसाईंखेड़ागांवकेदलितबस्तीकेग्रामीणोंनेबतायाकिमेंबिजलीनिगमनेएकदर्जनसे?यादापोलउनकीबस्तीमेंखड़ेकिएथेऔरअलगसेट्रांसफार्मरभीलगायाथा।इनपोलोंपरघर-घरबिजलीकीसप्लाईकेलिएकेबललगनीथी,मगरपांचवर्षबीतनेकेबादभीकेबलनहींलगी।ग्रामीणोंनेट्रांसफार्मरसेसीधेअपने-अपनेघरकीबिजलीसप्लाईचालूकरलीहै।यहांपरतारोंकाजालबिछाहुआहै।कईतारतोनंगीभीहैं।यहांपरकभीभीबड़ाहादसाहोसकताहै।ग्रामीणोंनेबिजलीनिगमकेखिलाफनारेबाजीकरतेहुएकेबललगानेकीमांगकी।

गोसाईखेड़ागांवमेंदलतिबस्तीमें5-6वर्षपहलेबिजलीनिगमनेपोललगाएथेऔरट्रांसफार्मरभी।बार-बारमांगकरनेकेबादभीपोलोंपरकेबलनहींलगीहै।ट्रांसफार्मरपरतारोंकाजालबिछनेकेकारणबस्तीमेंकिसीभीसमयबड़ाहादसाहोसकताहै।

सरोजदेवी,सरपंच,गोसाईंखेड़ा

मामला5-6वर्षपहलेकाहै।रविवारकोदफ्तरकीछुट्टीहै।कार्यालयमेंजाकरहीपताचलेगाकिमामलाक्याहै।मेरेपासऐसीकोईशिकायतनहींआईहै।समस्याकासमाधानकरनेकाप्रयासकियाजाएगा।

-वीरेंद्रसिंह,एसडीओ,बिजलीनिगमकार्यालयजुलाना