Exclusive: सभी नियमों का पालन कर यूपीए से भी सस्ते में हुई राफेल डील: सूत्र

नईदिल्ली:कांग्रेसअध्यक्षराहुलगांधीनेराफेलडीलकोबड़ामुद्दाबनादियाहै.राफेलसौदेकोलेकरसरकारगोपनीयताकाहवालादेरहीहै.वहींराहुलगांधीनेप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीऔरसरकारसेराफेलसौदेकोलेकरतीनसवालपूछेहैं.एबीपीन्यूज़कोसरकारमेंमौजूदसूत्रोंसेराहुलगांधीकेतीनोंसवालोंकाजवाबमिलाहै.इसजवाबमेंसबसेअहमबातयहहैकि सरकारकेसूत्रोंकेमुताबिक राफेलकीडीलयूपीएमेंकीगयीडीलसेसस्तीहै.यूपीएकीडीलमेंपुरानीपीढ़ीकेविमानथे.जबकिमोदीसरकारकीडीलमेंबेहदउन्नतऔरअगलीपीढ़ीकेविमानहैं.इसमेंहवासेहवामेंमारकरनेवालीपैट्रियटमिसाइलेंलगसकतीहैं.परमाणुहथियार,सोनार,मल्टीपलगन्सलोडहोसकतीहैं.

राहुलगांधीकापहलासवाल-क्याआपनेपेरिसजाकरकॉन्ट्रैक्टबदला?

पहलेसवालकाजवाब-सरकारकेसूत्रोंकाजवाबहैकिअप्रैल2015पीएममोदीपेरिसयात्रापरगएथे.उसवक्तपहलीबारवायुसेनाकीजरूरतकोदेखतेहुएप्रधानमंत्रीनेसीधेदोनोंसरकारोंकेबीचराफेलडीलकाप्रस्तावरखाथा.

दोनोंदेशोंकेबीचउससमयइसडीलपरसहमतिबनीतोMOUयाMOIपरहस्ताक्षरहुएथे.उसदौराननाकीमततयहुईथीऔरनहीहथियारोंकोलेकरबातहुईथी,सिर्फ36एयरक्राफ्टपरसहमतिबनीथी.पेरिसमेंएमओयूपरहस्ताक्षरहोनेकेबादभीसौदेबाजीमेंतकरीबनडेढ़सालकावक्तलगा,दोनोंसरकारोंकेअधिकारियोंऔरमंत्रीस्तरपरलगातारबातचीतहोतीरही.

राहुलगांधीकादूसरासवाल-क्याआपनेकैबिनेटकमेटीऑनसिक्योरिटीसेपूछाथाहांयाना?

दूसरेसवालकाजवाब-सरकारीसूत्रोंकाजवाबहैकिसितंबर2016मेंइसडीलपरतबकेरक्षामंत्रीमनोहरपर्रिकरऔरफ्रांसकेरक्षामंत्रीजीनदरिणनेहस्ताक्षरकिए.उससेपहलेCCSकीबैठकमेंबाकायदाइसडीलकोहरीझंडीदीगयी.

राहुलगांधीकातीसरासवाल-एकराफेलकीकीमतकितनीहै?

तीसरेसवालकाजवाब-सरकारकेसूत्रोंकाकहनाहैकिभारतसरकारऔरफ्रांससरकार2008केसमझौतेकेतहतइसडीलकीगोपनीयजानकारीसार्वजनिकनहींकरसकतीहै.इसगोपनीयताकेपीछेदोनोंदेशोंकेसामरिकहितछिपेहुएहै.एकराफेलफाइटरजेटकीकीमत610करोड़हैजोकियूपीकेवक्तकीकीमतसेकरीब75से100करोड़कमहै.

सरकारनेजिन36राफेलएयरक्राफ्टफ्रांससेखरीदनेकीडीलकीहैवो2012यूपीएसरकारमेंहुईराफेलकीडीलसेबेहदउच्चक्षमताकेहैंयानीकीयेराफेलअगलीपीढ़ीकेहैं.

राफेलयूपीएकीडीलसेसस्ताक्योंहै?

सरकारकेसूत्रोंकादावाहैकिराफेलकीडीलयूपीएमेंकीगयीडीलसेसस्तीहै.सूत्रोंकाकहनाहैकियूपीएकीडीलमेंपुरानीपीढ़ीकेविमानथे.जबकिमोदीसरकारकीडीलमेंबेहदउन्नतऔरअगलीपीढ़ीकेविमानहैं.इसमेंहवासेहवामेंमारकरनेवालीपैट्रियटमिसाइलेंलगसकतीहैं.परमाणुहथियार,सोनार,मल्टीपलगन्सलोडहोसकतीहैं.

सरकारकेसूत्रोंकाकहनाहैकियूपीएकेवक्तसौदापूरानहींहुआथा.अगर2012मेंडीलहोतीतबभी2017मेंपहलीखेपमिलती.कीमत570करोड़थीलेकिनहरसाल4फीसदीमुद्रास्फीतिजुड़तीतो2017मेंएकविमान684करोड़कापड़ता.इसमेंचक्रवृद्धिब्याजजोड़नेपरएकविमानकीकीमत700करोड़सेज्यादाहोजाती.

जबकिमोदीसरकारकीडीलमेंमुद्रास्फीतिकीदर1%रखीगयीहै.फ्रांसमेंमुद्रास्फीतिकीदर1%केहिसाबसेघटती-बढ़तीहै.मुद्रास्फीति1%होनेकीवजहसेरक्षाबजटपरबोझनहींपड़ेगा.इसलिएमोदीसरकारकीडीलमेंएकविमानकीकीमत610करोड़रूपएपड़रहीहै.

वित्तमंत्रीनेकहा-कीमतबतानादेशकेदुश्मनोंकीमददकरनेजैसा

वित्तमंत्रीअरुणजेटलीनेआजलोकसभामेंकहाकिजिसराफेलविमानकीकीमतकोलेकरराहुलइतनाहंगामाकररहेहैंउसकीसहीकीमतबतानादेशकेदुश्मनोंकीमददकरनेजैसाहै.जेटलीनेकहायेपहलामौकानहींहैजबसरकारकिसीरक्षासौदेकीपूरीजानकारीसार्वजनिकनहींकररहीहै,यूपीएकेसमयमेंरक्षामंत्रीप्रणबमुखर्जीभीऐसाकरचुकेहैं.पूरीडिटेलखबरयहांपढ़ें