दिल्लीवासियों के पानी पर कैसे डाका डाल रहे हैं वाटर स्मगलर्स?

तपतेसूरजमेंदेशकीराजधानीदिल्लीपानीकीबूंद-बूंदकेलिएजूझरहीहै.वहींपानीकेतस्करदिल्लीजलबोर्डकेपानीकोसोखकरउसकीकालाबाजारीसेजेबभरनेमेंलगेहैं.इंसानकीसबसेबुनियादीजरूरतपरडाकाडालनेकेइसधंधेकोइंडियाटुडेकीस्पेशलइंवेस्टीगेशनटीमनेअपनीजांचमेंबेनकाबकिया.

दुनियामेंटोक्योकेबाददिल्लीआबादीकेलिहाजसेदूसरासबसेबड़ाशहरहै.पानीकेतस्करोंकेसामनेदिल्लीपस्तहोरहीहै.तस्करइसपानीकोअपनेमालदारग्राहकों-मॉल्स,होटलोंऔरस्विमिंगपूल्सतकपहुंचारहेहैं.येअवैधधंधादिल्लीजलबोर्ड(DJB)केपरिसरोंसेहीफल-फूलरहाहै.वोभीऐसेवक्तमेंजबगर्मियोंमेंपानीकीमांगअधिकहोनेकीवजहसेसंकटचरमपरहोताहै.

बतादेंकिदिल्लीका56% भू-जलज़रूरतसेज्यादादोहनकाशिकारहै.दिल्लीसरकारकेएकसर्वेकेमुताबिकदक्षिणऔरदक्षिण-पश्चिमदिल्लीमेंजमीनीसतहसेपानी20से30मीटरनीचेतकजाचुकाहै.सर्वेमेंयेभीकहागयाकिपानीइंसानोंकेपीनेलायकनहींहै.आधिकारिकडेटाबताताहैकिदिल्लीमेंहरदिनपीनेकेपानीकी300मिलियनगैलंसकीकमीहोतीहै.इनगर्मियोंमेंरोजानामांग1,200मिलियनगैलंसतकबढ़गईहै.

एकअलगरिपोर्टमेंनीतिआयोगनेचेतावनीदीहैकिराजधानीदिल्लीसमेत21शहरोंमेंभू-जल2020तकखत्महोजाएगा,इससे10करोड़लोगप्रभावितहोंगे.

इससेपहलेइंडियाटुडेकीस्पेशलइंवेस्टीगेशनटीमनेखुलासाकियाथाकिकैसेदिल्लीमेंपानीमाफियाअवैधतरीकेसेभू-जलनिकालकरमोटामुनाफाकमारहाहै.जूनकेमध्यमेंSITने‘ऑपरेशनवाटरमाफियापार्ट1’मेंऐसेलोगोंकोकैमरेमेंकैदकियाथाजोबोरवैलकेजरिएपानीकेअवैधप्लांटलगाकरपानीकीकालाबाज़ारीकररहेथे.

इंडियाटुडेके‘ऑपरेशनवाटरमाफियापार्ट2’मेंपानीसेजुड़ेदिल्लीकीएकऔरस्याहतस्वीरसामनेलाईगईहै.

ताजाजांचमेंपायागयाकिकैसेदलाल,बिचौलिएऔरदिल्लीजलबोर्डकेपानीटैंकरोंकेड्राइवरमलीनबस्तियों(स्लम)औरअनाधिकृतकॉलोनियोंकीआपूर्तिकेपानीकोकहींऔरठिकानेलगाकरजेबभररहेहैं.

इसगोरखधंधेकीकालीहकीकतकोबेनकाबकरनेकेलिएहमारेअंडरकवररिपोटर्सनेओखलाकेपासदिल्लीजलबोर्डकेएक्जेक्यूटिवइंजीनियरकेदफ्तरकारुखकिया.यहांदफ्तरकेविशालपरिसरमेंएकपेड़केनीचेबाइकपरबैठेसुरेंद्रसेरिपोटर्सनेखुदकोप्राइवेटवाटरसप्लायरबताकरबातकी.सुरेंद्रकोईस्थानीयनागरिकनहींजोअपनेपानीकेकनेक्शनसेजुड़ीसमस्याकेलिएवहांआयाहुआथा.जल्दीहीसाफहोगयाकिसुरेंद्रशातिरदलालथा.वोपानीकेटैंकरउपलब्धकरानेकेलिएमोलभावकरनेलगा.सुरेंद्रनेकहा,“आपबताओकिकितनापैसादोगे.मैंगाड़ी(पानीसेभराटैंकर)भेजसकताहूं.”

रिपोर्टर- ‘’कितनेलीटर?’’

सुरेंद्र-“जितनाआपचाहो.”

सुरेंद्रनेगारंटीदेतेहुएकहाकिजोपानीवोमुहैयाकराएगावोसीधेदिल्लीजलबोर्डकेस्टेशनोंसेलायाजाएगा.

रिपोर्टर-"उम्मीदकरतेहैंकिपानीसाफहोगाऔरयहींसेभराजाएगा.

सुरेंद्र-“पानीनिश्चिततौरपरयहींसेभराजाएगा.”

सुरेंद्रनेयेभीवादाकियाकिदफ्तरकेकामकाजीघंटोंमेंपानीकीडिलिवरीकीजाएगी.

सुरेंद्र-“मैंदिनकेवक्तहीइसे(टैंकर)भेजसकताहूं.आपयेबताओआपकितनादेनेकोतैयारहो.फिरमैंड्राइवरकोबतादूंगा.”

सुरेंद्रनेफिरएकबड़ेपानीकेटैंकरकीकीमत700रुपयेबताई.दिल्लीजलबोर्डकेपरिसरोंकेआसपासमंडरानेवालेदलालहीसिर्फ़नहींजोआमनागरिकोंकेपानीकोमुनाफेकेलिएगटकरहेहैं.

इंडियाटुडेकीजांचसेसामनेआयाकिपानीकेटैंकरोंकोबीचरास्तेसेहीपैसेकेलिएकहींभीमोड़ाजासकताहै.

ओखलाकेपासमेंस्थितइलाकेमेंटैंकरड्राइवरपंकज600रुपयेकेबदलेटैंकरकापानीस्विमिंगपूलमेंडालनेकेलिएतैयारहोगया.

पंकज-“2,500-3,000लीटरकीगाड़ीकेलिए600रुपयेदेनेहोंगे.पानीसाफहै.मुझेबसदेखनाहोगाकिस्विमिंगपूलकितनाबड़ाहै,वहांकितनेपानीकीजरूरतहोगी.”

जांचकेदौरानदिल्लीजलबोर्डकेसेंटर्सकेबाहरपानीकेयेतस्करखुलेआमघूमतेदिखे.

एकप्राइवेटसप्लायरकेड्राइवरनेSITकोबताया,“हमकतारमेंनंबरसेखड़ेहोतेहैं.हमारेपासभरनेकेलिए12पहिएवालाट्रकहै.’’

रिपोर्टर-“क्यायेदिल्लीजलबोर्डकाहै.”

इससवालकाजवाबड्राइवरनेहांमेंदिया.