दिल्ली में एक महीने में चौथी बार आया भूकंप, जानिए कितना बड़ा खतरा है ?

नईदिल्ली:देशकीराजधानीदिल्लीमेंएकबारफिरभूकंपकेझटकेमहसूसकिएगएहैं.दिल्लीकेअलावाभीकईराज्योंमेंभूकंपकेझटकेमहसूसकिएगएहैं.रिक्टरस्केलमेंभूकंपकी4.6कीतीव्रताआंकीगईहै.रातके9बजकर8मिनटपरभूंकपकेझटकेमहसूसकिएगए.भूकंपकाकेंद्रहरियाणाकारोहतकथा.

यहचिंताकीबातइसलिएहैक्योंकिदिल्लीजैसेक्षेत्रमेंइसमहीनेकईबारभूकंपआ चुकाहैं.एकमहीनेकेअंदरयेचौथीबारभूकंपआयाहै.अबसवालउठताहैकिक्यादिल्लीएनसीआरमेंभूकंपकाआगेभीखतराहै.अगरहांतोखतराकितनाबड़ाहै.बतायाजाताहैकिभूकंपकेलिहाजसेदिल्लीकाफीसंवेदनशीलइलाकाहै.

दिल्लीसबसेसंवेदनशीलजोनमें

दरअसलभूकंपकोलेकरभारतकोचारअलग-अलगजोनमेंबांटागयाहै.मैक्रोसेस्मिकजोनिंगमैपिंगकेअनुसारइसमेंजोन-5सेजोन-2तकशामिलहै.जोन5कोसबसेज्यादासंवेदनशीलमानाजाताहैऔरइसीतरहजोनदोसबसेकमसंवेदनशीलमानाजाताहै.

राजधानीदिल्लीकोवैज्ञानिकोंनेजोनचारमेंरखाहै.जोनचारमेंवोइलाकेआतेहैंजहां7.9तीव्रतातककाभूकंपआसकताहै.उत्तर-पूर्वकेसभीराज्य,जम्मू-कश्मीर,उत्तराखंडऔरहिमाचलप्रदेशकेकुछहिस्सेजोन-5मेंहीआतेहैं.उत्तराखंडकेकमऊंचाईवालेहिस्सोंसेलेकरउत्तरप्रदेशकेज्यादातरहिस्सेदिल्लीकेसाथजोन-4मेंआतेहैं.मध्यभारतअपेक्षाकृतकमखतरेवालेहिस्सेजोन-3मेंआताहै,जबकिदक्षिणकेज्यादातरहिस्सेसीमितखतरेवालेजोन-2मेंआतेहैं.

हमारीधरतीमुख्यतौरपरचारपरतोंसेबनीहुईहै,इनरकोर,आउटरकोर,मैनटलऔरक्रस्ट.क्रस्टऔरऊपरीमैन्टलकोलिथोस्फेयरकहतेहैं.ये50किलोमीटरकीमोटीपरत,वर्गोंमेंबंटीहुईहै,जिन्हेंटैकटोनिकप्लेट्सकहाजाताहै.येटैकटोनिकप्लेट्सअपनीजगहसेहिलतीरहतीहैंलेकिनजबयेबहुतज्यादाहिलजातीहैं,तोभूकंपआजाताहै.येप्लेट्सक्षैतिजऔरऊर्ध्वाधर,दोनोंहीतरहसेअपनीजगहसेहिलसकतीहैं.इसकेबादवेअपनीजगहतलाशतीहैंऔरऐसेमेंएकप्लेटदूसरीकेनीचेआजातीहै.

भूकंपकीतीव्रताकाअंदाजाउसकेकेंद्र(एपीसेंटर)सेनिकलनेवालीऊर्जाकीतरंगोंसेलगायाजाताहै.सैंकड़ोकिलोमीटरतकफैलीइसलहरसेकंपनहोताहैऔरधरतीमेंदरारेंतकपड़जातीहै.अगरभूकंपकीगहराईउथलीहोतोइससेबाहरनिकलनेवालीऊर्जासतहकेकाफीकरीबहोतीहैजिससेभयानकतबाहीहोतीहै.लेकिनजोभूकंपधरतीकीगहराईमेंआतेहैंउनसेसतहपरज्यादानुकसाननहींहोता।समुद्रमेंभूकंपआनेपरसुनामीउठतीहै.