दिल्ली में अभी चुनाव हुए तो लौटेगी AAP की सरकार, CM के लिए केजरीवाल पहली पसंद: सर्वे

दिल्लीमेंआमआदमीपार्टीकीसरकारअपनेतीनसालपूरेहोनेपरआत्मविश्वासकेसाथजनताकेबीचजारहीहैतोविपक्षीदलउसेचुनावीवादेपूरेनकरनेपरघेरनेमेंलगेहुएहैं.हालांकि,इसबीचएकसर्वेमेंसामनेआयाहैकिअगरइससमयदिल्लीमेंचुनावहोतेहैंतोआमआदमीपार्टीफिरसेअपनीसरकारबनानेमेंसफलरहेगी.

तीनसालपूरेहोनेपरदिल्लीकेसीएमअरविंदकेजरीवालनेकहाहैकिउनकीसरकारने3सालोंमेंइतनाकामकियाहै,जोदिल्लीमें70सालोंमेंभीनहींहुआ.इसीसमय,एकसमचारचैनलकेचुनावीसर्वेमेंदिल्लीकेलोगोंकेबीचएकसर्वेकियागया.हालांकि,इससर्वेकेमुताबिकअभीचुनावहोनेपरआमआदमीपार्टीसबसेआगेरहेगी,लेकिनवह2015केजादुईप्रदर्शनकोनहींदोहरासकेगी.

CMकीपहलीपसंदकेजरीवाल

दिल्लीकामुख्यमंत्रीकौनकेजवाबमेंसर्वेमेंशामिललोगोंनेमौजूदासीएमअरविंदकेजरीवालकोहीपसंदकियाहै.सर्वेकेमुताबिककेजरीवाल49फीसदीलोगोंकीपहलीपसंदहैं.बीजेपीनेताऔरकेंद्रीयमंत्रीहर्षवर्धनसिंह14फीसदीलोगोंकीपसंदहैं.दिल्लीप्रदेशकांग्रेसअध्यक्षअजयमाकनको9फीसदीलोगहीसीएमकेरूपमेंदेखनापसंदकररहेहैं.चौथेनंबरपरदिल्लीकेमौजूदाडिप्टीसीएममनीषसिसोदियाहैं,जिन्हें6फीसदीलोगोंनेपसंदकियाहै.

आपको26सीटोंकानुकसान

सर्वेकेमुताबिकअभीचुनावहोनेपरAAPकोकमसेकम26सीटोंकानुकसानहोसकताहै.हालांकि,AAPइसनुकसानकेबावजूदसरकारबनानेमेंसफलरहेगी.सर्वेकेमुताबिकअगरअबचुनावहुएतोआमआदमीपार्टीकीसीटेंइसबार67सेघटकर41हीरहजाएंगी.बावजूदबड़ेनुकसानके,AAPकीसीटेंबहुमतकेआंकड़े(36)सेऊपररहेंगी।

दूसरेनंबरकीपार्टीहोगीBJP

सी-वोटरऔरएबीपीकेसर्वेमेंआमआदमीपार्टीकेबाददूसरेनंबरकीपार्टीBJPरहीहै.पिछलेचुनावमेंबीजेपीको3सीटोंसेसंतोषकरनापड़ाथा.अगरआजचुनावहोतेहैंतोउसकीसीटें25रहनेकाअनुमानजतायागयाहै.कांग्रेसकोखासफायदानहींहोनेकीबातकहीगईहै.पिछलीबारदिल्लीमेंकांग्रेसकाखाताभीनहींखुलसकाथा.सर्वेमेंइसबारउसे4सीटेंमिलनेकाअनुमानहै.

AAPकोसबसेज्यादानुकसान

इससर्वेकेमुताबिक,अभीचुनावहोनेपरAAPकावोटपर्सेंटेज54.3फीसदीसेघटकर39.6फीसदीरहजाएगा.वहीं,बीजेपीकोमामूलीबढ़तकेसाथ32.3फीसदीसेबढ़कर32.9फीसदीवोटमिलेंगे.कांग्रेसकावोटफीसदीसबसेज्यादाबढ़नेकाअनुमानलगायागयाहै.2015मेंकांग्रेसको9.7फीसदीवोटमिलेथे,आजकीतारीखमेंउसे19.7फीसदीवोटमिलेंगे.

करीब4हजारलोगोंकीराय

इससर्वेको4,170लोगोंकीरायकेआधारपरतैयारकियागयाहै.इसमेंदिल्लीमेंप्रमुखतीनोंराजनीतिकदलों-AAP,BJPऔरकांग्रेसकावोटपर्सेंटेज,उन्हेंमिलनेवालीसीटोंकीसंख्या,क्षेत्रवारनफा-नुकसान,सीएमकेरूपमेंपहलीपसंद,केंद्रसरकारपरदिल्लीवालोंकाभरोसाऔरअपनेवर्तमानविधायककोबदलनेकीइच्छाजैसेकईप्रश्नपूछेगएहैं.