अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र पुतई की दुर्दशा पर सरकार की नजर नहीं

दरभंगा।गरीबमरीजोंकीचिकित्साकेप्रतिगंभीरबिहारसरकारकाध्यानताराडीहप्रखंडकेअतिरिक्तस्वास्थ्यकेंद्रपुतईकीदुर्दशापरनहींजारहाहै।फलत:उक्तक्षेत्रकीकरीबपचासहजारकीआबादीकोसरकारीचिकित्साकापूरालाभनहींमिलपारहाहै।अस्पतालमेंमात्रदोचिकित्सकनियुक्तहैंजिनमेंएकचिकित्सकडॉ.सत्येंद्रकुमारमिश्रजिनकोतारडीहप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रकाप्रभारदियागयाहैवहींएकअन्यआयुषचिकित्सकडॉ.सुशीलकुमारदासकीदेखरेखमेंयहकेंद्रसंचालितहै।यहांआउटडोरदवावितरणसेलेकरप्रसवकार्यएनएनएमकेद्वाराकियाजाताहै।मरीजोंकेलिएनतोसमुचितबैठनेकीव्यवस्थाहीहैनहीस्वच्छपेयजलकी।नलकीपाइपतोड़दिएसेकईदिनोंसेजलापूर्तिठपहै।मरीजोंकोपानीकीव्यवस्थाखुदकरनीपड़तीहै।पुतईगांवकेअविनाशकुमारकहतेहैंकिस्थापनाकालमेंइसअस्पतालकीबेहतरव्यवस्थाथी।उचितदेखरेखकेअभावमेंअस्पतालकीचहारदिवारी,अस्पतालवरोगीविश्रामालयपूर्णताधराशायीहोगएहैं।बादमेंसरकारनेइसप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रकोअतिरिक्तप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रमेंबदलदिया।इसअस्पतालकेआसपासअल्पसंख्यक,अतिपिछड़ीतथापिछड़ेसमुदायकीआबादीज्यादाहै।जिन्हेंसरकारप्रदतचिकित्सासुविधाकीजरूरतअधिकहै।बावजूदअस्पतालबदहालीकाशिकारहै।समाजसेवीरमाकांतचौधरी,शंभूशरण¨सह,रामकुमारझासहितक्षेत्रकेबुद्धिजीवियोंनेसरकारसेपुतईअस्पतालकोसुविधाओंसेलैसकरकमसेकमतीनचिकित्सक,फार्मासिस्ट,कंपाउंडरएवंसफाईकर्मीकीनियुक्तिकरतेहुएपर्याप्तभवनआदिबनवानेकीमांगकीहै।इसकीदुर्दशापरआजतकसरकारकीनजरनहींपड़ीहै।