अध्यादेश को कृषि विरोधी बता रद कराने के लिए विधायकों को सौंपा मांग पत्र

जागरणसंवाददाता,रोहतक:केंद्रीयसरकारीकीओरसेजारीअध्यादेशोंकोकृषिविरोधीबतातेहुएइसेरदकरानेवअन्यमांगोंकोलेकरकिसानोंनेतीनविधायकोंकोज्ञापनसौंपा।किसानोंनेविधायकोंसेआह्वानकियाकिविधानसभामेंकिसानोंकेमुद्देउठाएजाएं।जिससेकिसानोंकोन्यायमिलसके।इसदौरानमहमविधायकबलराजकुंडू,कलानौरविधायकशकुंतलाखटकवबेरीविधायकरघुबीरकादयानकोज्ञापनसौंपासौंपतेहुएकिसानसभाजिलासचिवसुमितसिंहनेकहाकिकेंद्रसरकारनेतीनअध्यादेशवबिजलीकेनिजीकरणकाप्रस्तावआगामीसमयमेंकिसानोंकोउजाड़नेवालेसाबितहोंगे।सरकारमंडियोंकोचौपटकरन्यूनतमसमर्थनकोखत्मकरनाचाहतीहैजिसकेविरोधमेंप्रदेशवदेशभरमेंकिसानसड़कोंपरहै।

जिलाप्रधानप्रीतसिंहनेसरकारकेपदाधिकारियोंपरअध्यदेशोंकोलेकरलोगोमेंझूठावभ्रामकप्रचारकरनेकाआरोपलगाया।सरकारने2022तककिसानोंकीआमदनीकोदोगुनाकरनेकादावाकियाथा,जिसकीपोलखुलकरसामनेआगईहै।साथहीबिजलीकानिजीकरणकरतेहुएकिसानोंकोमिलनेवाली10पैसेप्रतियूनिटकोमहंगाकरनेकाप्रस्तावराज्यसरकारोंकोभेजाहुआहै।इससेकिसानोंकीआर्थिकस्थितिऔरबिगड़ेगी।

इसमौकेपरजिलाअध्यक्षप्रीतसिंह,उपप्रधानकैप्टनशमशेरमलिक,अशोकमायना,आनंदमायना,एडवोकेटअतरहुड्डा,खेमचंद,ओमप्रकाशकादयान,नरेशमलिकमौजूदरहे।